Patrika Hindi News

> > > > Raipur: Food Department Team Raid in Maurya Bharatgas Agency, Found 4 KG less of LPG in each cylinder

सावधान! कहीं आप को भी तो नहीं ठग लिया मौर्या गैस एेजेंसी के संचालक ने

Updated: IST theft gas in seal pack cylinder
जधानी में सील बंद गैस सिलेंडर के अंदर कम गैस भरी हाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। शुक्रवार को खाद्य विभाग की टीम द्वारा एेजेंसी में दबिश देने के बाद मामले का खुलासा हुआ

रायपुर. राजधानी में सील बंद गैस सिलेंडर के अंदर कम गैस भरी हाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। शुक्रवार को खाद्य विभाग की टीम द्वारा एेजेंसी में दबिश देने के बाद मामले का खुलासा हुआ। चेकिंग में पाया गया कि गोदाम में रखे सिलेंडरों में 2-4 किलो गैस कम था। खाद्य विभाग की टीम ने एेजेंसी संचालक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 400 सिलेंडरों को जब्त कर लिया है साथ ही एेजेंसी संचालक की धरोहर राशी को जब्त करने का आदेश दिया गया है।

दरअसल मामला यह है कि राजधानी के भारत पेट्रोलिसम से अधिकृत मौर्या गैस एेजेंसी के उपभोक्ताओं से लगातार सील बंद सिलेंडर में गैस कम पाए जाने की शिकायत मिल रही थी। शुक्रवार को खाद्य नियंत्रक आरसी गुलाटी की अगुवाई में खाद्या विभाग की टीम ने मौर्या गैस एेजेंसी के गोदाम में दबिश देकर करीब 400 सिलेंडरों की जांच की सभी सिलेंडरों में 2-4 किलो गैस कम पाया गया। कम गैस होने की वजह से जिला खाद्य नियंत्रक के सभी सिलेंडरों की जब्ती बना दी है। खाद्य विभाग की टीम ने आवश्यक वस्तु अधिनियम के आधार पर कार्रवाई करते हुए संचालक की जमा धरोहर राशि भी राजसात की कर दी।

एजेंसी खुलने से पहले ही पहुंच गई थी टीम
अवंती बिहार स्थित मौर्या गैस एजेंसी द्वारा सिलेंडर में कम गैस देने की शिकायत कलक्टर से गी गई थी। जिसके बाद खाद्य विभाग की टीम लगातार नजर बनाए हुए थे। शुक्रवार को भी सुबह 8 बजे ही टीम गोदाम पर पहुंच गई। हालांकि गोदम में ताला लगा हुआ था, टीम गोदाम खुलने का इंतजार कर रही थी, कि एजेंसी के कर्मचारी अपना डिल्वरी वाहन लेकर 9 बजे गोदाम पहुंचे। सिलेंडर लोड कर ही रहे थे कि टीम ने अचानक छापा मारा और खुद साथ रखे वजन मापने की मशीन से सिलेंडरों को तौलना शुरू किया तब जाकर पूरे खेल का खुलासा हुआ।

गोदाम पर रखा हुआ वेट मशीन भी सेट
अधिकारियों ने पहले सिलेंडर गोदाम पर रखे हुए वेट मशीन पर तौला तो सिलेंडरों का वजन सही दिखाया जा रहा था। उसके बाद विभाग द्वारा खुद ले गए वेट मशीन पर सिलेंडरों को तौला गया। जिसमें सभी सिलेंडरों का वजन 3 से 4 किलो कम निकला।

डिल्वरी शुरू होने से पहले ही पकड़ा
लोगों के घरों में पहुंचने से पहले ही जिला खाद्य निरीक्षकों ने इसे पकड़ लिया और संचालक के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है। जिला खाद्य नियंत्रक आरसी गुलाटी ने बताया कि गैस सिलेंडर की चैकिंग को लेकर उनकी टीम सुबह से ही नरदाहा स्थित मौर्या गैस एजेंसी के गोदाम पर पहुंची।

सील लगे सिलेंडर से हो रही चोरी
विभागीय सूत्र बताते हैं कि सिलेंडरों से गैस की चोरी एक स्तर पर नहीं, बल्कि तीन स्तरों पर हो रही है। प्लांट से कम गैस भरे सिलेंडर मिल रहे हैं, वहीं सील लगे सिलेंडरों से एजेंसी कर्मचारी व उपभोक्ता गैस चोरी कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो गैस सिलेंडरों पर लगी सील बिना टूटे खुल जाती है। बाद में उसे बिलकुल उसी तरह फिट किया जा सकता है, जिससे यह पता नहीं चलता कि सील किसी ने खोली है या नहीं। इस तरह 10 सिलेंडरों से गैस थोड़ी-थोड़ी कम कर एक नया गैस सिलेंडर तैयार किया जाता है।

ये करें उपभोक्ता
गैस सिलेंडर का वजन कम होने की जरा सी भी आशंका हो तो तत्काल सिलेंडर डिलेवरी करने वाले से सिलेंडर तुलवाएं। यदि गैस कम हो तो दूसरा गैस सिलेंडर लें, जिसमें निर्धारित मात्रा के अनुसार गैस हो। यदि एजेंसी के डिलेवरीकर्ता सिलेंडरों को तौलने से मना करते हों तो नापतौल विभाग को शिकायत करें।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे