Patrika Hindi News

> > > > Raipur: Kamal vihar Project, Building, RDA, Platting

RDA का ये कैसा प्लान, 1600 एकड़ में 16 मकान भी नहीं

Updated: IST kamal vihar
रायपुर विकास प्राधिकरण के 1600 एकड़ में निर्माणाधीन कमल विहार में पांच साल में 16 मकान भी आबाद नहीं हो सके

संतराम साहू @ रायपुर. रायपुर विकास प्राधिकरण के 1600 एकड़ में निर्माणाधीन कमल विहार में पांच साल में 16 मकान भी आबाद नहीं हो सके। प्लॉट धारकों को मकान बनाने के लिए पानी तक उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

आरडीए की सुस्ती का जीता-जागता नमूना यह है कि अभी तक 8 हजार प्लॉटों में से सिर्फ 4 हजार का ही एग्रीमेंट किया गया है।

बुनियादी सुविधाओं का विकास नहीं होने के कारण पांच साल में यहां सिर्फ 50 मकान ही निर्माणाधीन हैं। चार-पांच मकान बनकर तैयार हैं, लेकिन पानी-बिजली की व्यवस्था नहीं होने के कारण लोग रहने के लिए नहीं आ रहे हैं।

यहां मूलभूत सुविधाओं के विकास का ठेका लेने वाली एलएंडटी कंपनी तय अवधि में काम भी पूरा नहीं कर पाई है। आरडीए कंपनी को अधोसंरचना का काम पूरा करने के लिए दो बार एक्सटेंशन दे चुका है। लेटलतीफी के लिए कंपनी के आला अधिकारियों को फटकार भी लगाई जा चुकी है। अनुबंध के अनुसार एलएंडटी को पिछले साल ही काम पूरा कर लेना था।


आरडीए का काम भी धीमा

आरडीए प्रशासन ने इस सीजन में कमल विहार में 12 हजार पौधरोपण का लक्ष्य रखा था, लेकिन 6 हजार पौधे ही लगाए गए, शेष के लिए मार्गों के बीचोंबीच गड्ढे तो खोदे गए, पौधरोपण नहीं किया गया है। गड्ढों की मिट्टी रोड पर फैली हुई, इसके कारण वाहन चालकों को भारी परेशानी होती है।

- 2014 जनवरी में पूरा करने का किया था एलएंडटी से अनुबंध

- 400 करोड़ से अधिक में अधोसंरचना विकसित करने दिया है ठेका

- 12000 पौधे लगाने का लक्ष्य भी पूरा नहीं कर पाया आरडीए

ये काम हैं अधूरे

- पानी टंकी आज तक चालू नहीं हो पाई।

- इलेक्ट्रिक, टेलीफोन के लिए केबल तक नहीं डाली गई है।

- मार्गों के किनारे पाथ-वे निर्माण अधूरा पड़ा।

- सीवरेज-ड्रेनेज लाइन का चेम्बर कई जगहों पर खुला हुआ है।

- विद्युत सप्लाई की फीडर लाइन चालू नहीं।

- स्ट्रीट लाइट के लगाए गए अधिकांश स्थानों का सोलर पैनल बंद।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे