Patrika Hindi News

> > > > Raipur: Minister recommends controversial retired IAS for MD

विवादित रिटायर्ड IAS को मंत्री ने बताया काबिल, MD बनाने की सिफारिश की

Updated: IST corruption
भ्रष्टाचार को लेकर विवादों में रहे रिटायर्ड आईएएस टी.राधाकृष्णन की भंडारगृह निगम में संविदा नियुक्ति के लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री पुन्नूलाल मोहले ने राज्य सरकार से सिफारिश की है।

रायपुर. भ्रष्टाचार को लेकर विवादों में रहे रिटायर्ड आईएएस टी.राधाकृष्णन की भंडारगृह निगम में संविदा नियुक्ति के लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री पुन्नूलाल मोहले ने राज्य सरकार से सिफारिश की है। सूत्रों के मुताबिक इस सिफारिश में मंत्री ने राधाकृष्णन को काबिल अफसर बताया है।

राधाकृष्णन, जुलाई 2016 में भंडार गृह निगम के प्रबंध संचालक पद से सेवानिवृत्त हुए थे। उन्होंने कुछ समय पहले फिर इसी पद पर संविदा नियुक्ति के लिए आवेदन किया था। उनका तीन पेज का यह आवेदन मंत्री मोहले के पास पहुंचा तो उन्होंने अपनी सिफारिश के साथ इसे मुख्यमंत्री के पास भेज दिया।

बताया जा रहा है, खाद्य मंत्री ने सिफारिश में यहां तक लिख दिया है कि राधाकृष्णन एक काबिल अफसर हैं। उन्हें एमडी की जिम्मेदारी देने से भंडार गृह निगम का कायापलट हो जाएगा। एेसी ही एक सिफारिश भंडार गृह निगम के अध्यक्ष नीलू शर्मा ने भी की है।

मुख्य सचिव से भी वरिष्ठ अफसर
1978 बैच के अफसर टी राधाकृष्णन जुलाई 2016 तक राज्य के सबसे वरिष्ठ आईएएस थे। मुख्य सचिव विवेक ढांड उनसे तीन बैच जूनियर रहे हैं। प्रशासनिक सेवा के 38 साल के कॅरियर में राधाकृष्णन अधिकतर विवादों में रहे। पर्यटन सचिव और राजस्व मंडल के अध्यक्ष के रूप में उनकी सेवाएं सबसे अधिक विवादित रहीं। गंभीर आरोपों के आधार पर राज्य सरकार ने 2011 में उन्हें निलंबित कर दिया था। बहाली हुई तो उन्हें माध्यमिक शिक्षा मंडल में दिया गया। वहां भी उन्होंने गड़बडि़यां कीं। दिसम्बर 2015 में उन्हें भंडार गृह निगम का एमडी बनाया गया जहां से वे सेवानिवृत्त हुए।

भंडारगृह निगम अध्यक्ष नीलू शर्मा ने कहा कि टी. राधाकृष्णन ने संविदा नियुक्ति के लिए आवेदन किया था। यह उनका हक है। अफसर के आवेदन को देखने के बाद मैंने केवल आगे बढ़ा दिया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???