Patrika Hindi News

> > > > Raipur: No surgical instruments in Ambedkar Hospital

अंबेडकर अस्पताल में सर्जिकल उपकरणों का आभाव, नहीं हो रहा मासूम का ऑपरेशन

Updated: IST Ambedkar Hospital
सर्जिकल उपकरणों की कमी के चलते राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल डॉ.़ भीम राव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय में छोटे बच्चों के हार्ट का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है

रायपुर. सर्जिकल उपकरणों की कमी के चलते राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल डॉ.़ भीम राव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय में छोटे बच्चों के हार्ट का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है। मरीजों को निजी अस्पतालों में भेजा जा रहा है। अस्पताल में 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों और बड़ों के हृदय रोग से जुड़े ऑपरेशन होते हैं, लेकिन इससे कम उम्र के बच्चों का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा। हार्ट के अलावा किडनी रोग से पीडि़त बच्चों के लिए भी व्यवस्था नहीं है। अस्पताल प्रबंधन सर्जिकल उपकरण की खरीदी नहीं कर रहा है।

मासूम का नहीं हो रहा ऑपरेशन
ओडिशा की 2 वर्षीया प्रिया(परिवर्तित नाम) को हार्ट की बीमारी है। आर्थिक रूप से कमजोर परिवार बेहतर उपचार के लिए अंबेडकर अस्पताल पहुंचा। बच्ची की पीडियाट्रिक और कॉर्डियोलॉजी विभाग के डॉक्टरों ने जांच की। बच्ची के हृदय की धमनियां काफी कमजोर पाई गईं। उसकी धड़कन समान्य से बहुत कम है। बच्ची को ओपन हार्ट सर्जरी के जरिए पेसमेकर लगाना होगा। पेसमेकर के अलावा अन्य सर्जिकल आइटमों की भी जरूरत पड़ेगी, लेकिन अस्पताल में इतने कम उम्र के बच्चों के लिए सर्जिकल आइटम नहीं है। इस कारण बच्ची का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है।

पहले भी हुआ है एेसा
पिछले सप्ताह भी एक बालिका को सर्जिकल आइटम नहीं होने से बिना ऑपरेशन के लौटना पड़ा था। उसे भी इसी तरह की समस्या थी। ओपन हार्ट सर्जरी की आवश्यकता थी। उल्लेखनीय है कि पेसमेकर 1 से डेढ़ लाख रुपए में मिलता है।

रायपुर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव सुब्रत साहू ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन से जानकारी मांगी गई है। किसी तरह की कमियां और जरूरत है? इसके बाद ही कुछ किया जा सकेगा।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे