Patrika Hindi News

RBI ने कहा - अफवाहों पर ध्यान न दें, 10 रुपए के सिक्के बंद नहीं हुए

Updated: IST 10 rupee coin
10 रुपए के सिक्के को लेकर बाजार में अफवाह थमने का नाम नहीं ले रहा। अब सब्जी और ऑटो वाले भी 10 रुपए के सिक्के लेने से मना कर रहे हैं।

रायपुर. 10 रुपए के सिक्के को लेकर बाजार में अफवाह थमने का नाम नहीं ले रहा। पहले किराना दुकानों में सिक्के नहीं लिए जा रहे थे। अब सब्जी और ऑटो वाले भी 10 रुपए के सिक्के लेने से मनाही कर रहे हैं। गोलबाजार में कई दुकानों में सिक्के नहीं लिए जा रहे हैं। इस संबंध में बैंक अधिकारियों का कहना है कि कोरी अफवाहों पर लोगों को ध्यान नहीं देना चाहिए, क्योंकिRBIने 10 रुपए के सिक्कों पर प्रतिबंध के संबंध में ऐसी कोई गाइडलाइन जारी नहीं की है। गोलबाजार व्यापारी संघ के अध्यक्ष जोगेंद्र नागवानी ने कहा कि बाजार में समस्या बढ़ती जा रही है। प्रशासन को इस दिशा में आगे आना चाहिए।

दो तरह की डिजाइन

यह सच है कि बाजार में 10 रुपए के सिक्के के दो तरह के डिजाइन है। बैंक अधिकारियों ने कहा है कि दोनों डिजाइन को आरबीआई द्वारा स्वीकृत किया गया है।

गली-मोहल्लों में भी समस्या

गली-मोहल्लों के दुकानों में ज्यादा समस्या देखने को मिल रही है।यह अफवाह दिनोंदिन बढ़ती भी जा रही है। आम दिनों जहां 10 रुपए के सिक्के दिन भर में 200 से 300 रुपए आते थे, इन दिनों इन सिक्कों की आवक 4 से 5 हजार रुपए हो गई है।

नोटबंदी इफेक्ट: बैंकों में नहीं लौट रहे 500-100 के नोट

हर तीन से चार दिन में आरबीआई से 500-100 रुपए के नोट पहुंचने की जानकारी मिल रही है। भले ही इसकी संख्या कम हो, लेकिन यह राशि लोगों के बीच पहुंच रही है, लेकिन पिछले बड़ी समस्या यह है कि बाजार का नोट बैंकों तक नहीं पहुंच पा रहा है। बाजार में इसलिए भी चिल्हर की किल्लत बढ़ चुकी है। राजधानी के बैंक अधिकारी स्वीकार करते हैं कि जिस फ्लो में बैंक और एटीएम से करेंसी बाहर जा रही है, उस फ्लो में बैंक में जमा नहीं हो रही है। इससे बैंकों को भी नकदी देने समस्या आ रही है।

कमीशन का यह खेल

बाजार सूत्रों का कहना है कि पेट्रोल-पंपों में 500 रुपए के नोटों को स्वीकार किया जा रहा है। बाजार में इन दिनों 25 से 30 फीसदी कमीशन के बदले पुराने नोटों का नए नोटों में फेरबदल का खेल चल रहा है। कई ऐसे दलाल सक्रिय हो चुके हैं जो पेट्रोल-पंप में पुराने नोटों की अदला-बदली कर रहे हैं, जिसके बदले उन्हें नए नोट मिल रहे हैं। वहीं बीच के दलाल 30 फीसदी कमीशन वसूल रहे हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???