Patrika Hindi News

> > > > Raipur: Well not so neglected Anganwadi services, strict action will

आंगनबाड़ी सेवाओं में लापरवाही बरती तो खैर नहीं, होगी कड़ी कार्रवाई

Updated: IST Anganwadi services
आंगनबाड़ी केन्द्रों के काम-काज और उनमें दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। काम पूरा नहीं करने वालों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

रायपुर. आंगनबाड़ी केन्द्रों के काम-काज और उनमें दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। महिला एवं बाल विकास मंत्री रमशीला साहू ने योजनाओं की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को कड़े शब्दों में हिदायत दी। उन्होंने कहा कि काम पूरा नहीं करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

मंत्री रमशीला साहू ने बैठक में मनरेगा के समन्वय से बन रहे आंगनबाड़ी भवनों की प्रगति की भी समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न मदों से स्वीकृत आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण समय-सीमा में सुनिश्चित करने और आंगनबाड़ी केन्द्रों के खाली पदों की पूर्ति के लिए अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि विभाग के जिला स्तरीय अधिकारी नियमित रूप से आंगनबाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण करें और वहां बिजली, स्वच्छ पेयजल और शौचालय की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। इसके साथ ही इन केन्द्रों में बच्चों और गर्भवती माताओं को दिए जाने वाले पोषण आहार की गुणवत्ता का भी विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। उन्होंने जिलों से आए अधिकारियों को अपने-अपने जिलों में कलेक्टरों से चर्चा कर वन स्टाप सेंटर की स्थापना के लिए स्थान चिन्हांकित करने के भी निर्देश दिए।

मंत्री ने समीक्षा बैठक में यह भी कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और साहिकाओं के मानदेय भुगतान के लिए आधारसीडिंग का कार्य दस दिन में पूर्ण कर लिया जाए, ताकि उन्हें समय पर ऑनलाइन भुगतान प्राप्त हो सके। बैठक में मुख्यमंत्री अमृत योजना, महतारी जतन योजना, पूरक पोषण आहार कार्यक्रम के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को गर्म व पका हुआ भोजन देने की व्यवस्था की भी समीक्षा की गई।

इसके साथ मंत्री ने बैठक में अधिकारियों से कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में भोजन बनाने की जिम्मेदारी जिन स्व-सहायता समूहों को दी गई है, उन्हें साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान देने के लिए कहा जाए। उन्होंने कहा कि किशोर बाल कल्याण समिति एवं किशोर न्याय बोर्ड के लंबित प्रकरणों सहित विभाग में जिला स्तर पर लंबित अनुकम्पा नियुक्ति के मामलों और विभागीय जांच के प्रकरणों की भी जानकारी ली और अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। साहू ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना, नोनी सुरक्षा योजना, सुकन्या समृद्धि योजना, महिला जागृति शिविरों के आयोजन और मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से संबंधित कार्यों की भी समीक्षा की। इस मौके पर महिला एवं बाल विकास संचालनालय के कम्प्यूटीकरण का भी उन्होंने शुभारंभ किया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे