Patrika Hindi News

क्या एक सीध में दरवाजे होने से वास्तु दोष माना जाता है? जानिए इन बातों को

Updated: IST
यहां हम आपको एक शिक्षक अलावा आम आदमी के जीवन पर भी वास्तु शास्त्र के उपयोग से पडऩे वाले लाभ के बारे में बता रहे हैं

रायपुर. आदि काल से ही वास्तु शास्त्र का मानव जीवन पर अच्छा बुरा प्रभाव बना रहता है। नियम के मुताबिक कायज़् करने पर निश्चित में सफलता मिलती है। वहीं अगर पर इसे भूलने की भूल करते हैं तो इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। यहां हम आपको एक शिक्षक अलावा आम आदमी के जीवन पर भी वास्तु शास्त्र के उपयोग से पडऩे वाले लाभ के बारे में बता रहे हैं।

> जब भी यह कहा जाये कि तीन दरवाजे एक सीध में न हो तो इसका मतलब होता है तीन दरवाजे वटिज़्कल ना हो

> जब तीन दरवाजे हारिजोंटल हों तो कोई दोष नही लगता

> जब भी किसी घर में तीन दरवाजे एक सीध में हो तो वह वास्तु दोष होता है।
> वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के अंदर प्रवेश की हुयी उर्जा को घर के अंदर घूमना चाहिए।

> तीन दरवाजे एक सीध में होने की वजह से एक ओर से उर्जा घर में प्रवेश करती है और दूसरी ओर से निकल जाती है।

> तीन दरवाजे एक सीध में होने के दोष निदान के लिए तीनों दरवाजे में पर्दे लगाकर उर्जा क बाहर निकलने से रोकना चाहिए।
> बीच के दरवाजे में विंड चायिम [सुर लहरी] लगाकर उर्जा को डाइवर्ट करना चाहिए ।

क्या आप वास्तु-शास्त्र में रूचि रखते हैं ,,,,,,,,,? क्या आप वास्तु शास्त्र सीखना चाहते हैं .......वो भी नि :शुल्क .....? क्या आप वास्तु सलाहकार हैं ,क्या इस मंच के माद्यम से वास्तु की जानकारी देना चाहते हैं ----? क्योंकि इसमें है वो सब जानकारी जो आपके प्रश्नों पर आधारित है।

Pt Deonarayan Sharma
+91 94252 07282

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???