Patrika Hindi News

> > > > 5 thousand and two, so the operation

5 हजार दो, तो होगा ऑपरेशन

Updated: IST raisen
जिला अस्पताल में रिश्वत का खेल...

रायसेन जिला अस्पताल में मरीजों से इलाज के लिए रुपए मांगने की कई दिनों से मिल रही शिकायतों का गुरुवार को खुलासा हुआ। जब अस्पताल में भर्ती एक मरीज के पैर का ऑपरेशन करने के लिए डॉक्टर ने रुपए मांगे और रुपए लेते हुए डाक्टर को लोगों ने रंगे हाथों पकड़ लिया। इसके बाद जमकर हंगामा हुआ और डॉक्टर को कान पकड़कर माफी मांगना पड़ी और लिए गए रुपए वापस करना पड़े। इस पूरे मामले की जानकारी जिले के अधिकारियों सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भी दी गई, लेकिन मौके पर केवल टीआई पहुंचे। बाकी अधिकारी उक्त डॉक्टर को बचाने के प्रयास करते रहे। बाद में डॉक्टर को अपने किए की माफी मांगते हुए देखा गया। मरीज भैयालाल राजपूत ने मामले की शिकायत मुख्यमंत्री हेल्प लाइन सहित कलेक्टर को आवेदन देकर की है। अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. केके लेडवानी द्वारा मरीजों के इलाज और ऑपरेशन के नाम पर मरीजों से रुपए ऐंठने के पहले भी कई मामले सामने आ चुके हैं। सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल पिपरिया जिला सागर निवासी शिवराज गौर पिता सुंदरलाल के घुटने और जांघ की हड्डी के ऑपरेशन के नाम पर डॉ. लेडवानी ने बड़ी रकम ली थी, जबकि उसका ऑपरेशन हमीदिया हास्पिटल भोपाल में करवा दिया। जब ऑपरेशन फेल हो गया तो उसे दोबारा इलाज करने के नाम पर जिला अस्पताल में भर्ती करवा दिया। 11 सितंबर को लोनिवि मंत्री राम पाल सिंह राजपूत जिला अस्पताल पहुंचे थे, तब उक्त मरीज ने रामपाल सिंह ने शिकायत की थी। राजपूत ने स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव गौरी सिंह, संयुक्त स्वास्थ्य संचालक डॉ. किरण शेजवार सहित अन्य को शिकायत कर जांच के आदेश दिए थे।

यह है सारा मामला...

ग्राम जैतपुरा जिला विदिशा निवासी 36 वर्षीय भैयालाल राजपूत लगभग 15 दिन पहले एक दुर्घटना में घायल होकर इलाज के लिए जिला अस्पताल रायसेन में भर्ती हुआ था। उस दौरान विदिशा में कफ्र्यू लगा हुआ था। तब से जिला अस्पताल में कार्यरत अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. केके लेडवानी घायल मरीज भैयालाल राजपूत का इलाज कर रहे हैं। वे मरीज से उसके घुटने के ऑपरेशन के लिए पंाच हजार रुपए की मांग कर रहे थे। भैयालाल के साले महाराज सिंह ठाकुर डॉ. लेडवानी को पहले तीन हजार रुपए दिए, लेकिन वो ऑपरेशन के लिए तैयार नहीं हुए। पूरे पांच हजार रुपए की मांग पर अड़े रहे। गुरुवार को महाराज सिंह ने डॉक्टर से बात की उन्होंने महाराज सिंह को रुपए लेकर अपने निवास पर बुलाया। महाराज ने यह बात कुछ लोगों को बताई और दो हजार का नया नोट लेकर डॉक्टर को देने के लिए गया। जैसे ही डॉक्टर लेडवानी ने अपने सहयोगी मनोज मालवीय के जरिए दो हजार रुपए लिए, लोगों की भीड़ घर में घुस गई।

नहीं लिया एक हजार का नोट

दो हजार रुपए का नोट देने से पहले महाराज सिंह एक हजार का पुराना नोट लेकर डॉक्टर के पास गया था, लेकिन उन्होंने कहा कि पुराना नोट नहीं लेंगे। इसे खुल्ला करवाकर लाओ। यह सारी बात भी महाराज सिंह ने मोबाइल में रिकॉर्ड कर ली थी

रिकॉर्डिंग सुनाई तो बंद हो गई बोलती

महाराज सिंह ने डॉक्टर से रुपए की सारी डील की बात अपने माबोइल में रिकॉर्ड की। इसके बाद ही डॉक्टर को रुपए दिए। पकड़े जाने पर डॉक्टर रुपए लेने की बात से इनकार करते रहे, लेकिन जब उन्हें और उनके सहयोगी को रिकॉर्डिंग सुनाई गई तो उनकी बोलती बंद हो गई।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???