Patrika Hindi News

'गणित-अंग्रेजीÓ से लगता है डर, तनाव करने लगा बीमार

Updated: IST
बोर्ड एग्जाम

रायसेन. जिले में बोर्ड के एग्जाम की तैयारियों में छात्र पूरी तरह से जुट गए हैं। कोई रात जागकर कर पढ़ रहे हैं तो कोई दिन में। कोई नोट्स बनाकर तो, कोई हरेक पाठ का बारीकी से अध्ययन कर रहा है। जैसे-जैसे परीक्षा की तारीखें नजदीक आती जा रही है, वैसे ही विद्यार्थियों के दिल की धड़कनें तेज होने लगी हैं। उन्हें परीक्षा का यह डर भी काफी सता रहा है। किसी को पास होने का तो किसी को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए छात्र काउंसलर्स से सलाह ले ही रहे हैं, ताकि कम समय में बेहतर पढ़ाई किस तरह करें, ताकि वार्षिक परीक्षा में बेहतर अंक आ सकें। एमपी बोर्ड भोपाल स्थित कॉल सेंटर पर आलम यह है कि रायसेन जिले से प्रतिदिन अब 25 से 30 कॉल किए जा रहे हैं। कांउसलर्स ने बताया कि छात्रों को कम समय में बेहतर पढ़ाई करने के तरीके और उचित सलाहें दी जा रही है। साथ ही कई बार उनके माता-पिता की भी काउंसलिंग की जाती है। सेंटर की काउंसलिंग भावना शुक्ला ने बताया कि जैसे-जैसे बोर्ड परीक्षा की तिथि पास आती जा रही है। छात्र को डर बढ़ता जा रहा है। कम अंक आने पर नहीं डांटें: अभिभावक यदि बच्चों के प्री-बोर्ड परीक्षा में कम आंक आएं, तो उनको बिल्कुल नहीं डांटें। बल्कि उनके हौंसले को बुलंद रखें ।उन पर पढ़ाई का दबाव नहीं डालें। उन पर निगरानी रखें। दूसरे बच्चों की तरह बनने के लिए न बोलें। विद्यार्थी भी फोकस होकर पढ़ाई करें।

नहीं लग रहा मन

जागृति (10वीं) : साल भर पढ़ाई में मन नहीं लगा। अब परीक्षा का समय नजदीक देखकर अन्य विषयों की थोड़ी-थोड़ी पढ़ाई जरूर कर ली है। पर गणित व इंग्लिश पढऩे का अब समय नहीं बचा है।

जवाब: पुराने प्रश्न पत्र हल कर लें। पढ़ाई के लिए उसका ब्लू प्रिंट शेड््यूल बना लें। जो सब्जेक्ट कमजोर हैं उनको फोकस करें।

दोस्तों के छूटने की चिंता

अनुपत (कक्षा 10वीं): दोस्तों से बिछडऩे का डर सता रहा है। 11वीं क्लास में सब्जेक्ट बदलने के बाद ज्यादातर दोस्त छूट जाएंगे। पढ़ाई में मन नहीं लग रहा।

जवाब : ज्यादा ध्यान पढ़ाई करने पर दें। दोस्तों के संपर्क में रहने के फोन वाट्सएप और फेसबुक जैसे दूसरे तरीके भी हैं।

ज्यादा पढ़ाई से हो गए बीमार

मिनी : वार्षिक परीक्षा के चलते इतनी मेहनत हो रही है कि सही तरीके से सो नहीं पा रही हूं। पूरे समय सिरदर्द बना रहता है। टाइम मैनेजमेंट कैसे करें।

जवाब : सब्जेक्ट ज्यादा तैयार है। उनका रिवीजन करें। तनाव से बचने के लिए योग और ध्यान करें। माता-पिता बच्चों को ज्यादा मेहनत के लिए दबाव नहीं डालें।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???