Patrika Hindi News

> > > > Not to sanction Rs cottage cottage

कुटीर स्वीकृत कराने लिए रुपए पर नहीं मिला कुटीर

Updated: IST Raisen
रायसेन. इंदिरा आवास योजना और राशन कार्ड बनाने के नाम पर ग्रामीणों से राशि वसूली जा रही है। इसके बाद भी न तो उन्हें कुटीर मिले हैं और न ही राशन कार्ड। परेशान ग्रामीण अब सचिवों के चक्कर लगा रहे हैं

रायसेन. इंदिरा आवास योजना और राशन कार्ड बनाने के नाम पर ग्रामीणों से राशि वसूली जा रही है। इसके बाद भी न तो उन्हें कुटीर मिले हैं और न ही राशन कार्ड। परेशान ग्रामीण अब सचिवों के चक्कर लगा रहे हैं शुक्रवार को जनपद अध्यक्ष एस मुनियन ग्राम पंचायत नांद और बनगवां का दौरा किया, जहां ग्रामीणों ने उन्हें अपनी समस्याएं बताते हुए उक्त शिकायतें कीं। निरीक्षण में पाया गया कि ग्राम पंचायत नांद में विकास कार्यों के प्रति लापरवाही बरती जा रही है। यहां कार्य अधूरे पड़े हैं।

ग्राम बर्रुखार के ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व सचिव धर्मेन्द्र तिवारी द्वारा इंदिरा आवास योजना अंतर्गत कुटीर कराने के लिए कई हितग्राहियों से 2500-2500 रुपए लिए थे। लगभग 500 लोगों से कुटीर के लिए वसूली की गई। इसके अलावा राशन कार्ड बनाने के लिए लिए लगभग 50 लोगों से 200-200 रुपए लिए गए। जबकि आज तक उन हितग्राहियों को कोई भी योजना का लाभ नहीं दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि लाडली लक्ष्मी योजना के तहत कार्ड बनाने के लिए दो हजार रुपए की मांग की जाती है। स्वच्छता अभियान के तहत शौचालयों का निर्माण कराया गया था, लेकिन अभी तक उसकी मजदूरी लगभग आठ हजार रुपए का भुगतान नहीं किया गया। ग्राम बर्रूखार में ग्रामीणों ने अपनी राशि से शौचालय का निर्माण कराया, लेकिन सचिव ने शासन से राशि मिलने के बाद भी हितग्राहियों को नहीं दी।

भोजन में दो रोटी और दाल

ग्राम रतनपुर के स्कूल में मध्याह्न भोजन का निरीक्षण किया। इसमें मीनू का पालन होते नहीं पाया गया। बच्चों को मध्याह्न भोजन में दो रोटी और पती दाल परोसी जा रही थी। अध्यक्ष मुनियन ने बच्चों से बात की, बच्चों ने बताया कि दो रोटी में पेट नहीं भरता है। हमेशा एक सा भेाजन मिलता है। अध्यक्ष ने मौके पर पंचनामा बनाया जिसे कार्रवाई के लिए अधिकारियों को भेजा जाएगा। इस मौके पर प्रेमनारायम मीना मंडल अध्यक्ष, सरपंच, सचिव एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे