Patrika Hindi News

प्रसूताओं को पुराने फटे कंबलों का सहारा, किराए से लाना पड़ रहे बिस्तर

Updated: IST Rajgarh
सिविल अस्पताल का मैटरनिटी वार्ड जहां किराये के और खुद के बिस्तर के सहारे बिताई जा रही सर्द रातें

ब्यावरा. सर्द रातों में कड़ाके की ठंड में फिर स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का आलम सामने आया। सिविल अस्पताल के सबसे सेंसेटिव प्रसूती वार्ड में भी जच्चा-बच्चा को कंबल और ठंड से बचाव के सामान नहीं मिल पा रहे हैं।

फटे और पुराने कंबलों में ठिठुरती प्रसूता और नवजात को राहत दिलाने के लिए परिजन या तो घर से बिस्तर लाने को मजबूर हैं या फिर किराये के बिस्तर से उन्हें काम चलाना पड़ रहा है। दो-तीन से अचानक गिरे पारे के कारणवैसे ही आम-जीवन ठंड के कारणप्रभावित हो गया है, बावजूद इसके स्वास्थ महकमा व्यवस्थाओं को लेकर गंभीर नहीं है। लाखों, करोड़ों रुपए खर्चकर बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाने के स्वास्थ विभाग के तमाम दावे जमीन स्तर पर खोखले और बोने साबित होते नजर आरहे हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???