Patrika Hindi News

> > > > Ruckus

राशि का भुगतान नहीं होने पर सरपंचों ने किया हंगामा

Updated: IST rajgarh

राजगढ़. जनपद राजगढ़ की कई पंचायतों के सरपंच और प्रतिनिधियों ने मंगलवार को जनपद परिसर में खासा हंगामा किया। सरंपचों ने लंबे समय से रूकी पड़ी पंचायतों की सामग्री भुगतान की राशि आवंटित करने के लिए एकजुट होकर सीईओ को ज्ञापन सौंपा।

इसमें दबी जबान से सरपंचों ने जनपद सीईओ और कुछ अन्य कर्मचारियों की मिलीभगत से चुनिंदा पंचायतों को मनमानी राशि डालने और शेष पंचायतों को छोडऩे का आरोप लगाया। वहीं सरपंचों की इस कार्रवाई से नाराज सीईओ ने पंचायतों में भुगतान की तो कई बात नहीं बल्कि ज्ञापन के तुरंत बाद पाड़लीखाती के सरपंच के खिलाफ एक पुरानी जांच को लेकर नोटिस थमा दिया। ऐसे में अब सीईओ की इस मनमानी से नाराज कई पंचायतों के सरपंचों ने अब जनपद की कार्रवाई के खिलाफ खुलकर सामने आने की बात कही है।

ज्ञापन देने वालों में समेली के सरपंच प्रतिनिधि रामनरेश धनगर, किला अमरगढ़ के इंदरसिंह, पाड़लीखाती के प्रेमसिंह राजपूत, नेसड़ी के गंगाधर, बावड़ीपुरा के नारायण सिंह, कलीखेड़ा की मांगीबाई, देहरीनाथ के देवीराम, रामगढ़ पंचायत के रामलाल सहित अन्य पंचायतों के सरपंच और प्रतिनिधि शामिल थे।


क्यों दिया ज्ञापन

दर्जनों पंचायतों में लंबे समय से भुगतान नहीं होने के कारण ग्रामीणों की सुविधा और गंाव के विकास के लिए होने वाले कार्य लंबे समय से अटके पड़े है। सामग्री का भुगतान नहीं होने से पंचायतों में निर्माधीन कपिलधारा कुंआ, सीसी रोड, आंतरिक मार्ग, खेत सड़क आदि अधूरे पड़े है। सामग्री भुगतान के लिए सरंपच और सचिवो ने सीईओ से कई बार भुगतान की मांग भी की है, लेकिन कभी राशि का आवंटन नहीं होने तो कभी विभागीय प्रक्रिया का हवाला देकर पंचायतों की राशि को रोक लिया गया। जबकि जनपद को यह राशि करीब एक माह पूर्व ही मिल गई थी।

राशि मिलने के बाद जनपद सीईओ ने सभी पंचायतों में वर्ष 2013-14 और 2014-15 के कार्यों की राशि पहले जारी करने का आश्वसन दिया था, लेकिन इसके विपरित कुछ दिन पहले हताईखेड़ा, खजुरी सहित कुछ अन्य पंचायतों में 35 से 40 लाख तक की रािश का एकमुश्त भुगतान कर दिया गया,जबकि अन्य पंचायतों में अब तक कोई राशि जारी नहीं हो पाई है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???