Patrika Hindi News

लाखों की मूर्ति चोरी कर भागे सगे भाइयों को पुलिस ने कर्नाटक में धर दबोचा

Updated: IST Brothers fled steal the idol of millions and caugh
आरोपी 23 वर्षीय फिरोज पिता मेहबुब मियां, 26 वर्षीय युनुश शेख पिता मेहबुब मिंया तथा 19 वर्षीय फ्युम पिता मेहबुब मियां निवासी ग्राम कट्टीतुगांव थाना धनौरा जिला बिदर (कर्नाटक) दबोचे गए हैं।

राजनांदगांव.क्राइम ब्रांच और छुईखदान थाने की टीम ने कर्नाटक के ग्राम कट्टीतुगांव से तीन सगे भाइयों को छुईखदान जैन मंदिर से 9 नवंबर से चोरी गए पुरातात्विक महत्व अष्टधातु व चांदी से निर्मित साढ़े 6 लाख रुपए कीमती 7 मूर्तियों के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी 23 वर्षीय फिरोज पिता मेहबुब मियां, 26 वर्षीय युनुश शेख पिता मेहबुब मिंया तथा 19 वर्षीय फ्युम पिता मेहबुब मियां निवासी ग्राम कट्टीतुगांव थाना धनौरा जिला बिदर (कर्नाटक) दबोचे गए हैं। बरामद मूर्तियों को लाखों रुपए में बेचने की तैयारी थी। इसके पहले ही आरोपी गिरफ्त में आ गए।

ताला तोड़कर की थी चोरी

पत्रवार्ता में एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि 9 नवंबर की रात को जैन मंदिर छुईखदान का ताला तोड़ कर अज्ञात अपराधी पुरातात्विक महत्व के अष्टधातु एवं चांदी से निर्मित 7 नग मूर्ति चोरी कर ले गए गए थे। प्रार्थी अतुल जैन निवासी छुईखदान की रिपोर्ट पर धारा 457,380 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। पतासाजी के लिए क्राइम ब्रांच की टीम को सक्रिय गया। एएसपी शशिमोहन सिंह स्वत: घटना स्थल पहुंचकर निरीक्षण किए थे। एसपी ने बताया कि बाजार मूल्य लगभग 6 लाख 50 हजार रुपए आंकी गई है। इन मूर्तियों के संबंध में पुरातत्व विभाग रायपुर से परीक्षण कराकर मूर्तियां कितनी प्राचीन है का पता लगाया जाएगा।

पुरातात्विक महत्व की हैं बरामद मूर्तियां, कीमत लाखों में

1. अष्टधातु निर्मित शेषनाग लगी हुई पाश्र्वनाथ भगवान की बड़ी मूर्ति वजनी करीब 6-7 किलो

2. एक पाश्र्वनाथ की शेषनाग लगी छोटी मूर्ति वजनी करीब 2 किलो

3. आदित्यनाथ भगवान की प्लेन मूर्ति वजनी करीब 5-7 किलो

4. चन्द्रप्रभु की मूर्ति चांदी की वजनी करीब 1 किलो

5. महावीर भगवान की अष्टधातु निर्मित मूर्ति वजनी करीब 2 किलो

6. 2 नग हाथी की मूर्ति पीतल निर्मित वजनी करीब 3 किलो बरामद

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???