Patrika Hindi News

> > > > Rajnandgaon: Getting forest personnel in connivance with teak timber harvesting

वन कर्मियों की मिलीभगत से हो रही इमारती लकड़ी सागौन की कटाई

Updated: IST Getting forest personnel in connivance with teak t
वन परिक्षेत्र उत्तर बोरतलाव अंतर्गत कोलारघाट पश्चिम बैगिन-बैगा बीट क्रमांक.433434 में वनकर्मियों की मिली भगत से अवैध कटाई का मामला इन दिनों सुर्खियों में है।

राजनांदगांव/डोंगरगढ़. वन परिक्षेत्र उत्तर बोरतलाव अंतर्गत कोलारघाट पश्चिम बैगिन-बैगा बीट क्रमांक.433434 में वनकर्मियों की मिली भगत से अवैध कटाई का मामला इन दिनों सुर्खियों में है।

अवैध कटाई जारी

ज्ञात हो कि कक्ष क्रमांक 433434में सैकडों साल पुराने सागौन के बड़े-बड़े पेडों की अवैध कटाई का क्रम इन दिनों जारी है। इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि फारेस्ट गार्ड बिसनाथ सिन्हा, वनपाल कृष्णकुमार ब्राम्हणकर सहित परिक्षेत्र अधिकारी फुलसिंग को इसकी जानकारी होते हुए भी ये उन पर कार्यवाही नहीं कर रहे हैं।

गोलों को बाईक से पार कर रहे

यहां शाम होते ही आठ-दस की संख्या में लकड़ी सप्लायर पहुंचकर सागौन पेड़ों को हाथ आरा से काटकर छह फीट सागौन गोलों को बाईक से पार कर रहे हैं। यही नहीं जिस दिन अधिक लकडिय़ां ले जानी हो तो बड़े वाहन का प्रयोग कर लकड़ी ले जा रहे हैं। डीएफओ दिलराज प्रभाकर का मोबाइल बंद पाया गया। एसडीओ एसएस तारम ने पत्रिका से कहा कि ऐसी शिकायत है तो जांच कराएंगे।

लकड़ी का चिरान कर बेच रहे

इस संबंध में यह भी जानकारी है कि स्थानीय फर्नीचर मार्ट खैरागढ रोड नया अछोली स्थित सागौन सप्लायर द्वारा हाथ आरे से काटे गये गोलों की सिल्लीयां बनाकर बडे शहरों में उंचे दामों पर बेची जा रही है। यहां बीटो की जांच कराई जाने से और भी तथ्य सामने आयेंगे जहां अंदरूनी क्षेत्रों में सागौन के वृक्षों की अंधाधुंध कटाई की गई है। संबंधित लकडी चोर बिना डर के बिंदास सागौन के हरे पेडों को काट रहे है। जहां वनकर्मी अपनी खाल बचाने के लिए कुछ ठुंठो पर हेंबर लगा रखे है जबकि लकडी चोरों द्वारा कई पेडों को जमीन केसमतल कर उसपर मिटटी डाली जा रही है।

आज भी देखे जा सकते हैं ठूंठ

इस बैगिनबैगा जंगल में भारी मात्रा में सागौन छिलके व हाथआरों से कटे भुसे ठूंठ के पास आज भी देखे जा सकते है। तथा कुछ ठूंठो पर वनकर्मियों द्वारा कचरा या छिलका बीनकर उसपर आग लगा देते है जिससे ठूंठ के जलने से अवैध कटाई के सबूत ही खतम हो जायेंगे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे