Patrika Hindi News

कुछ तो शर्म करो, मरीजों के आधे निवाले गटक रही भाजपा से जुड़ी महिलाएं

Updated: IST Some of shame, BJP women
मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती मरीजों को शासन की ओर से निर्धारित की गई मात्रा के अनुसार भोजन ही नहीं भरोसा जा रहा है। संस्थाएं सेवा की आड़ में भोजन में कांटामारी कर सिर्फ कमाई पर ध्यान दे रहीं हैं।

राजनांदगांव.मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती मरीजों को शासन की ओर से निर्धारित की गई मात्रा के अनुसार भोजन ही नहीं भरोसा जा रहा है। संस्थाएं सेवा की आड़ में भोजन में कांटामारी कर सिर्फ कमाई पर ध्यान दे रहीं हैं। इन शिकायतों को मद्देनजर रखते हुए प्रबंधन ने सख्त कदम उठाते हुए अब भोजन वितरण व्यवस्था की निगरानी बढ़ा दी है। वहीं रसोई कक्ष संभालने वाली संस्थाओं को स्टील के चार कटोरे दिए गए हैं। अब संस्थाओं को इन्ही कटोरे के हिसाब से नापकर भोजन परोसना होगा। इसके बाद भी भोजन की मात्रा कम पाई गई तो अब सख्त कार्रवाई होगी। हिदायत दी गई है।

भोजन तैयार करने के दौरान करेंगे निगरानी

प्रबंधन को यह पता चला है कि संस्थाओं की ओर से वार्डों में भर्ती मरीजों के हिसाब से रोटी, चावल और सब्जियां तैयार नहीं की जाती। कम मात्रा में भोजन तैयार कर बचत करते हुए कांटामारी करते हैं। इसलिए अब प्रबंधन की ओर से रसोई कक्ष में चावल तैयार करने के दौरान भी निगरानी की जाएगी। हाल में समूह की ओर से निम्न स्तर का चावल लाकर मरीजों को वितरित करने की तैयारी की गई थी। जानकारी मिलने पर प्रबंधन की ओर से सख्ती करते हुए चावल की बोरी को वापस कराया गया। निर्धारित दर के हिसाब से क्वालिटी वाला चावल तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

भोजन की क्वालिटी को लेकर उठ गए सवाल

आतंरिक मरीजों को भोजन देने का काम महिला समूह की ओर से किया जा रहा है। भाजपा से जुड़ीं महिलाएं व्यवस्था संभाल रहीं हैं। आए दिन भोजन की क्वालिटी को लेकर सवाल उठते रहते हैं। हाल ही में सड़ा-गला फल बांट दिया गया था, जिस पर प्रबंधन ने समूह को फटकार लगाई तब जाकर साफ-सुथरे फल बांटे गए। वहीं लगातार यह शिकायत मिल रही थी कि मरीजों को पर्याप्त भोजन नहीं दिया जाता। यानी की भर्ती मरीजों के हिसाब से रसोई कक्ष में भोजन तैयार नहीं होता। इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए गड़बड़ी पर रोक लगाने प्रबंधन ने नया तरीका ईजाद किया है। अधीक्षक डॉ. केके सहारे ने बताया कि भोजन वितरण की व्यवस्था पर नजर रख रहे हंै।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???