Patrika Hindi News

न बिजली और न पानी, विभाजन से अब तक अंधेरे में गुम है यह गांव

Updated: IST power cut
झारखंड अलग राज्य बने 15 साल गुजर जाने के बाद भी एक गावं ऐंसा है जो आज भी अंधेरे ही गुम है...

जादूगोड़ा। झारखंड अलग राज्य बने 15 साल गुजर जाने के बाद भी एक गावं ऐंसा है जो आज भी अंधेरे ही गुम है। बिजली आज तक गांव में पहुंची हीं नही, सड़क के नाम पर पथरीला रास्ता मात्र है। खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहते राशन कार्ड मिले, लेकिन सरकारी अधिकारियों की लापरवाही से इन्हे 15 किमी दूर उतरी ईचड़ा गांव राशन लेने के लिए आना पड़ता है।

जानकारी के अनुसार आलम यह है कि गांव में मात्र एक चापाकल है, जिसका ग्रामीण बीमारी के भय से उपयोग नहीं करते। इस चापाकल से दुर्गंधयुक्त पानी निकलता है। प्यास बुझाने के लिए बड़ा झरना गांव के के लोगों के लिए गड्ढे का पानी ही उनका एकमात्र सहारा है।

हम बात कर रहे हैं पूर्वी सिंहभूम जिले के मुसाबनी प्रखंड की माटीगोड़ा पंचायत का बड़ाझरना गांव की जो आज भी बुनियादी सुविधाओं से जूझ रहा है। गांव में न तो बिजली और न ही पानी। सड़क के नाम पर कच्ची पगडंड़ियां हैं। इसे ही लोग गांव की लाइफ लाइन मान चुके हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???