Patrika Hindi News

झारखंड बंद: सीएनटी-एसपीटी कानून में संशोधन के खिलाफ आदिवासी आक्रोश

Updated: IST Jharkhand news, jharkhand tribal, Jharkhand off, C
शुक्रवार को आदिवासी संगठनों ने झारखंड बंद बुलाया है। प्रस्तावित बंद को लेकर पूरे राज्य में पुलिस प्रशासन को सतर्क कर दिया गया है...

रांची। शुक्रवार को आदिवासी संगठनों ने झारखंड बंद बुलाया है। प्रस्तावित बंद को लेकर पूरे राज्य में पुलिस प्रशासन को सतर्क कर दिया गया है। आदिवासी संगठनों के द्वारा यह बंद सीएनटी-एसपीटी कानून में संशोधन के खिलाफ बुलाया है। बंद के मद्देनजर रांची के सभी निजी स्कूलों ने शुक्रवार को अवकाश घोषित कर दिया है।

जानकारी के अनुसार उत्पातियों से निपटने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स की दो और रैपिड एक्शन पुलिस की तीन कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके अलावा दस हजार अतिरिक्त सुरक्षा बल, जिसमें चार हजार जिला बल और चार हजार होमगार्ड के जवान शामिल हैं, की भी तैनाती की गई है। उत्पात मचानेवालों को तुरंत गिरफ्तार करने के आदेश दिए गए हैं।

पुलिस प्रवक्ता आईजी एमएस भाटिया के मुताबिक सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं। सभी एसपी और डीसी को उत्पातियों से निपटने के निर्देश दिए गए हैं।

25 नवंबर को विपक्षी दलों की ओर से बुलाए झारखंड बंद के दौरान हुए उपद्रव के मद्देनजर रांची में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। पुलिस मुख्यालय, विशेष शाखा, सीआईडी में काम करनेवाले सभी पुलिसकर्मियों को रांची जिला बल में प्रतिनियुक्त कर दिया गया है। पूरे राज्य में धारा 144 लागू रहेगी।

राज्य भर के आदिवासी छात्रावासों पर पुलिस की नजर है। पुलिस ने छात्रावास में रहनेवाले छात्रों की सूची तैयार कराई है। वैसे नेताओं की सूची तैयार की गई है,जो बंद कराने उतरेंगे। अगर, कहीं तोड़फोड़ हुई, तो क्षतिपूर्ति के लिए बंद बुलाने वाले संगठन के नेताओं को नोटिस जारी किया जाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???