Patrika Hindi News

बजट के अभाव में जेब खाली, उधारी से कट रहे दिन

Updated: IST
आदिवासी विकास विभाग और शिक्षा दोनों की एक जैसी स्थिति, 20 तारीख बाद भी नहीं मिली तनख्वाह

रतलाम। शिक्षा और आदिवासी विकास विभाग में कार्यरत हजारों कर्मचारियों को मार्च माह का वेतन अप्रैल के आधे से ज्यादा बीत जाने के बाद भी नहीं मिला है। कर्मचारियों के सामने संकट यह है कि वे कहें तो किसे क जिलास्तर पर भी अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है और एक ही जवाब देते हैं कि बजट नहीं आया है।

हालांकि शिक्षा विभाग में बजट मिल जाने का दावा किया जा रहा है जबकि आदिवासी विकास विभाग में अभी तक कोई संभावना दिखाई नहीं दे रही है। हालत यह है कि कर्मचारियों को वाहन या मकान के बैंक किस्तें उधार लेकर चूकता करना पड़ रही है। वेतन समय पर नहीं मिलने पर कर्मचारी संगठनों के नेताओं ने कड़ा ऐतराज जताते हुए कहा कि जल्द ही वेतन नहीं मिलता है तो सारे शिक्षक और संगठन सड़क पर उतर जाएंगे।

सात से आठ हजार कर्मचारी

आदिवासी विकास विभाग और शिक्षा दोनों में मिलाकर सात से आठ हजार शिक्षक, अध्यापक और संविदा शिक्षक कार्यरत हैं। दोनों ही विभागों में किसी को अब तक वेतन नहीं मिल पाया है। हालांकि जिला शिक्षा अधिकारी का कहना है कि विभाग में बजट जारी हो चुका है और जल्द ही वेतन जारी कर दिया जाएगा। सभी डीडीओ को निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वे वेतन बिल जल्द लगाएं।

दूसरा वेतन बिल होने लगा तैयार

मार्च माह का वेतन आज तक नहीं मिला जबकि नियमानुसार माह की 20 तारीख के बाद चालू माह का वेतन पत्रक तैयार करने की प्रक्रिया चालू हो जाती है। 20 अप्रैल निकल चुका है और अब अप्रैल के वेतन पत्रक तैयार करने की तैयारी हो गई जबकि मार्च माह का भी वेतन नहीं मिल पाया है। हालांकि दोनों माह के वेतन पत्रक लगने से कर्मचारियों को दोनों माह का वेतन एक साथ मिल जाएगा।

समय पर वेतन नहीं मिलना गलत

कर्मचारियों से जमकर काम लिया जा रहा है। हर काम में शिक्षकों को लगा दिया जाता है लेकिन समय पर वेतन नहीं दिया जा रहा है। शासन का नियम है कि हर कर्मचारी को माह की पहली तारीख को वेतन मिल जाना चाहिए। कलेक्टर भी चाहते हैं कि पहली तारीख को कर्मचारियों के खातों में वेतन पहुंच जाए इसके उलट यहां कभी भी ऐसा नहीं हो रहा है। यह कहां का न्याय है।

सर्वेशकुमार माथुर, जिला सचिव मप्र शिक्षक संघ

वेतन के बिना कैसे चलाएं परिवार

शासन ने समय पर बजट जारी नहीं किया जिससे शिक्षकों और अध्यापक संवर्ग माह की 20 तारीख निकलने के बाद भी वेतन का इंतजार करना पड़ रहा है। बिना वेतन के अध्यापक और संविदा शिक्षक कैसे घर चलाएं, कहां से बच्चों की फीस जमा कराएं और कैसे मकान या वाहन के लोन की किस्तें भरें। हमें उधार लेकर काम चलना पड़ रहा है लेकिन उधार भी कब तक लें।


शैतानसिंह राठौर, ब्लाक अध्यक्ष राज्य अध्यापक संघ

बजट आ गया जल्द मिलेगा वेतन

बजट मिल गया है और जल्द ही कर्मचारियों को वेतन देने के निर्देश सभी डीडीओ को जारी कर दिए गए हैं। सभी जगह वेतन पत्रक तैयार है और हमारी तरफ से राशि भी जारी कर दी गई है। वेतन बिल लगते ही सभी को वेतन मिल जाएगा।

अनिल वर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???