Patrika Hindi News

रेलवे शुरू करेगा खुद का TV CHANNEL, 24 घंटे रखेगा अपडेट!

Updated: IST train
आपके रेल मंत्री कैसे है, क्या रेलवे को खुद का 24 घंटे का रेल टीवी शुरू करना चाहिए, या फिर रेलवे संगठनों का आए दिन विरोध जायज है। ये कुछ सवाल है जो रेलवे ने अपनी वेबसाइड में किए है।

रतलाम। रेलवे मंत्रालय 24 घंटे का रेल टीवी शुरू कर सकता है। रेल विभाग ने इसके लिए सर्वे शुरू किया है। यदि ऐसा होता है तो प्रत्येक रेलवे स्टेशनों पर रेल टीवी ही चलेगा जो यात्रियों को सभी प्रकार की जानकारी से अपडेट रखेगा।

रेलवे मंत्रालय खुद का रेल टीवी शुरू कर सकता है। रेलवे टीवी शुरू करने से पहले सर्वे करवा रहा है। सर्वे में इसके अलावा लोगों से यह भी पूछा जा रहा है कि आपके रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु कैसे हैं। आईआरसीटी से भी आनलाइन खरीदी के लिए पोल चलाया गया है। यह पोल 31 मार्च तक रेलवे की वेबसाइट पर चलेगा।

11 सवालों पर 18 हजार लोगों ने दिए जवाब
आपके रेल मंत्री कैसे है, क्या रेलवे को खुद का 24 घंटे का रेल टीवी शुरू करना चाहिए, या फिर रेलवे संगठनों का आए दिन विरोध जायज है। ये कुछ सवाल है जो रेलवे ने अपनी वेबसाइड में किए है। तीन दिन में पूछे गए 11 सवालों पर अब तक 18 हजार लोगों ने जवाब दिए हैं। रेलवे 31 मार्च तक ये सवाल वेबलिंक पर जारी रखेगा। प्रस्तुत है प्रमुख सवाल व उनके लिए लोगों के मतदान का प्रतिशत।

ये है सवाल व उनके लिए हुए मतदान

रेलमंत्री के काम को कैसे देखते हैं।
एक्सीलेंट-54 प्रति. मतलब 2277 लोगों ने रेलमंत्री सुरेश पी प्रभु के काम को एक्सीलेंट बताया।
गुड- 21 प्रति. मतलब 894 लोगों को प्रभु का काम गुड लगता है।
एवरेज- करीब 16 प्रति. एेसे भी रहे जो प्रभु के काम को एवरेज मानते हैं, एेसे लोगों की संख्या 680 है।
सिर्फ ठीक- इन सबके बीच 8 प्रति. या 327 लोग प्रभु के काम को सिर्फ ठीक मानते हैं।

रेल दुर्घटना का बड़ा कारण क्या है।
आतंकी कारण- 34 प्रति. लोग मानते हैं इसके पीछे आतंकी हाथ है। इनकी संख्या 670 है।
कर्मचारियों की लापरवाही- 30 प्रति. या 592 लोग मानते हैं इसके लिए कर्मचारियों की लापरवाही जिम्मेदार है।
ट्रैक के कारण- 23 प्रति. या 465 लोग मानते है खराब ट्रैक रेल दुर्घटना के लिए जिम्मेदार है।
पटरी की टूट- 13 प्रति. या 266 लोग मानते है पटरी की टूट इसके लिए जिम्मेदार है।

क्या नए रेल जोन बनाने का ये सही समय है।
हा- इस सवाल के जवाब में 74 प्रति. मतलब 1286 लोगों ने इसका जवाब हां में दिया।
नहीं पता-6 प्रति. या 106 लोगों ने नहीं पता कहा तो 5 प्रति. या 80 लोगों ने और इंतजार की सलाह दी।

रेलबजट को आम बजट में मिलाना सही कदम है।
हां- 70 प्रति. या 1240 ने इसे सही कदम बताया तो 22 प्रति. या 391 ने इसे गलत कहा।
नहीं पता- 2 प्रति. या 41 लोग एेसे भी है, जिनको ये नहीं पता कि ये कैया कदम है।

क्या रेल संगठनों से रेलवे का सुधार हुआ है।
नहीं- 56 प्रति. या 731 लोगों ने रेल संगठनों की भूमिका को नकार दिया।
हां- जबकि 23 प्रतिशत या 298 का मानना हैं कि इसमें ट्रेड यूनियन का बेहतर रोल है।

क्या आप आईआरसीटीसी से ऑनलाइन खरीदी करेंगे।
हां-59 प्रति. या 465 ने इसे स्वीकार किया, जबकि 19 प्रतिशत ने इसे नकार दिया।

ट्रेड यूनियन ऑफलाइन टिकट खरीदी में सर्विस चार्ज हटाने के विरोध में है, क्या ये सही है।
नहीं- 54 प्रति. या 429 लोगों ने रेल संगठन के इस कदम को नकार दिया, जबकि 33 प्रति. या 262 इसे सही मानते है।

क्या रेलवे को स्वयं का 24 घंटे का रेलटीवी लाना चाहिए।
हां- 89 प्रतिशत या 1003 लोग चाहते है कि रेलटीवी आए।
नहीं पता-11 प्रतिशत या 128 लोगों को इस बारे मे जानकारी नहीं है।

क्या हाईस्पीड ट्रेन का स्वागत होगा।
हां-90 प्रतिशत या 1149 ने इसे बेहतर बताया।
नहीं पता-सिर्फ 1 प्रतिशत या 17 ने कहा इस बारे में नहीं पता।
नहीं-जबकि 9 प्रतिशत या 116 ने कहा नहीं।

इस वेबलिंक पर हो रहा सर्वे

आमजन करें मतदान
ये सवाल-जवाब आमजन के लिए है। सभी को सर्वे में भाग लेकर विचार देना चाहिए। इससे रेलवे की भावी योजनाओं की दिशा तय होगी।
- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???