Patrika Hindi News

फिरौती के लिए व्यापारी को गोली मारने वाले पुलिस गिरफ्त में

Updated: IST Ratlam News
बड़े भाई को गोली मारी, छोटे को फोन कर धमकाया था, आरोपियों पर पूर्व में भी कई अपराध दर्ज, 25 लाख रुपए चाहिए, नहीं तो अपने भाई से पूछ लेना अंजाम।

जावरा (रतलाम)। शहर के पठानटोली रोड पर 5 सितंबर को व्यापारी खलील एहमद पिता मोह मद गुलाम पर गोली चलाने वाले आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मामले का खुलासा बुधवार को किया। 25 लाख रुपए की फिरौती की मांग को लेकर आरोपियों ने खलील पर गोली चलाई थी। हमलावरों का निशाना खलील का छोटा भाई शकील था, लेकिन बड़े भाई पर गोली दागने के बाद शकील को फोन कर धमकी दी और फिरौती की मांग की। फोन पर उन्होंने कहा कि 25 लाख रुपए चाहिए नहीं तो अंजाम देख लेना। दो बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। एक की तलाश की जा रही है। आरोपियों पर पूर्व में भी कई अपराध दर्ज है।

गोलीकांड का खुलासा एसपी अविनाश शर्मा ने शहर थाने में बुधवार को दोपहर में किया। इस दौरान सीएसपी दीपक शुक्ला, सीटी टीआई विनोदसिंह कुशवाह, आईए टीआईहरीश जेजुरकर भी मौजूद थे। एसपी ने बताया टीम 5 सितंबर को गोली चलाने के पूर्व से ही आरोपी व्यापारी की गतिविधि पर नजर जमाएं हुए थे। 5 सितंबर को व्यापारी खलील पुत्र गुलाम दस्तगीर के साथ अबुसईद दरगाह के समय स्थित कब्रिस्तान में मां की कब्र पर फातेहा पढ़़कर ऑटो रिक्शा से वापस आ रहा था, तब पठानटोली रोड शुक्रवारिया कॉर्नर पर उसे जांघ पर गोली मारी गई।

पीछे से मारी थी गोली

दरगाह से निकलने के बाद जैसे ही गली में पहुंचे तो पीछे आ रहे आसिफ उर्फ पम्मी (21) पठान निवासी कमाल खां पठानटोली ने बाइक से ओवरटेक कर बाइक को गली में लगाया और गुलाम नबी उर्फ कुक्का (25) निवासी ताल नाका ने ऑटो के पास आकर पिस्टल से खलील को गोली मार दी। फिर गली में खड़ी बाइक से दोनों फरार हो गए। वारदात में इनके साथ वसीम चौकड़ी भी दूर से ही फोन पर जुड़ा हुआ था। इसके साथ जेल में बंद नासीर के कहने पर वारदात करना कबूला। कुक्का पर जावरा के अलावा नीमच में भी गोली चलाने का मामला दर्ज है। पुलिस ने आरोपियों को हुसैन टेकरी क्षेत्र से गिर तार किया है, जिन्हें गुरुवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा। घटना में शामिल वसीम की पुलिस को तलाश है तो नासीर के बारे में पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त मोबाइल, बाइक, पिस्टल जब्त की है।

ये बताया पुलिस को

पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि जेल में बंद नासीर खां निवासी ताल के कहने पर रुपए की मांग के लिए उन्होंने खलील पर गोली चलाई। नासीर हत्या के मामले में रतलाम जेल में बंद है। जब वह पेशी पर आया तब आरोपी उससे मिले थे और जेल रिकॉर्ड अनुसार भी आरोपी नासीर से मिल चुके हैं। कुक्का ने बताया कि गोली चलाने के लिए पिस्टल उसे वसीम ने उपलब्ध कराई थी।

ऐसे पहुंची पुलिस आरोपियों तक

खलील के छोटे भाई शकील को फोन पर धमकी देकर फिरौती मांगी गई, वह मोबाइल वसीम का नहीं था। जिस मोबाइल का उपयोग किया, वह उपरवाड़ा निवासी दीपक पाटीदार का है। इसी लोकेशन से पुलिस उपरवाड़ा दीपक के पास पहुंची। उसने बताया कि उसका मोबाइल गुम हो गया था। यहीं से पुलिस को कड़ी मिली और सुराग हाथ लगे। इस पर पुलिस ने आरोपियों तक पहुंचकर उन्हें गिर तार किया। हालांकि कई दिनों की तलाश के बाद भी वसीम पुलिस से दूर है।

चौकड़ी पर दर्ज है 12 अपराध

वसीम पिता सईद चौकड़ी पर विभिन्न मामलों में 12 अपराध दर्ज है। इसमें जानलेवा हमला करने, आ र्स एक्ट के साथ मारपीट के अलावा अन्य मामले दर्ज है। 12 में से 1 आईए थाने में दर्ज है तो 11 मामले शहर थाने में दर्ज है। इस वारदात में शामिल वसीम अब भी पुलिस गिर त से दूर है और वारदात वाले दिन भी वसीम की लोकेशन अजमेर में पुलिस को मिली। वहीं से फोन पर वह पल-पल की जानकारी ले रहा था। वसीम ने पहचाने जाने के भय से घटना से अपने आप को दूर रखकर साथी से हमला करवाया। वसीम गोली चलाने के साथ ही हथियारों के साथ पकड़ाने के अलावा कई मामलों में गिरफ्तार हो चुका है।

हमले में शामिल होना भी कबूला

पकड़े गए दोनों आरोपियों ने गत दिनों पिपलौदा रोड पर बने फॉर्म हाऊस पर सराफा व्यापारी पर हुए हमले की वारदात में शामिल होना भी कबूला है। पकड़े आरोपियों के साथ कुल 6 आरोपी व्यापारी पर लूट के इरादे से हुए हमले में शामिल थे।

Ratlam News

फिरौती के लिए पहले भी चली गोलियां

शहर में व्यापारियों से फिरोती की मांग को लेकर पहले भी गोलियां चल चुकी है। डेढ़ साल पहले सब्जी मंडी क्षेत्र में आलू व्यापारी पर 20 लाख की फिरौती की मांग को लेकर गोली चली थी। हालांकि पुलिस दोनों मामलों की लिंक आपस में जुडऩा नहीं बता रही है। दोनों ही मामले पूरी तरह अलग-अलग बताए जा रहे है।

टीम को पुरस्कार की घोषणा

सीटी व आईए टीआई के साथ ही सहायक उपनिरीक्षक व्हायएस चुण्डावत, प्रआर दिनेश भदोरिया, आरक्षक विजय थापा, विष्णु चंद्रावत, विकास पटेल, अनिल पाटीदार, ओमप्रकाश जाट, जयंतीलाल पाटीदार, दीपक शर्मा, सुनील प्रजापति, राजेश सेंगर, हुकुमसिंह देवड़ा, मनोज भट्ट, हर्षवर्धन, अमृतराम की भूमिका महत्वपूर्ण रही। एसपी ने टीम को 10 हजार के पुरस्कार की घोषणा की।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???