Patrika Hindi News

इस मंत्र के जाप से मुर्दा भी हो जाता है जिंदा, भक्तों की हर इच्छा तुरंत होती है पूरी

Updated: IST shivlinga bholenath
मृत संजीवनी मंत्र के प्रयोग से मृत व्यक्ति को भी जीवित किया जा सकता है, बड़े से बड़े रोग से भी मुक्ति पाई जा सकती है

भारतीय शास्त्रों में महामृत्युंजय तथा गायत्री मंत्र दोनों को ही परम शक्तिशाली माना जाता है। इन दोनों मंत्रों को मिलाकर 'मृत संजीवनी विद्या' की रचना की गई है। मृत संजीवनी विद्या (मंत्र) के प्रयोग से मृत व्यक्ति को भी जीवित किया जा सकता है, बड़े से बड़े रोग से भी मुक्ति पाई जा सकती है।

ऐसे करें पूजा

किसी भी शुक्ल पक्ष के सोमवार की सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर भगवान शिव की आराधना करें तथा इस मंत्र का 108 बार जप करें। इस प्रयोग से बड़ी से बड़ी बीमारी भी सहज ही ठीक हो जाती है।

मृत संजीवनी मंत्र इस प्रकार है-

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्‌ ॐ स्वः भुवः ॐ सः जूं हौं ॐ

इसके अलावा भी भगवान शिव के अन्य कई मंत्र हैं जिनकी सहायता से आप अपनी हर इच्छा पूरी कर सकते हैं। इन मंत्रों में शिव का पंचाक्षरी मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र का स्थान सबसे उपर है। महामृत्युंजय मंत्र इस प्रकार हैं-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

लघु महामृत्युंजय मंत्र

जो लोग महामृत्युंजय मंत्र का जाप नहीं कर सकते, उनके लिए लघु महामृत्युंजय मंत्र का विधान बताया गया है। रात को 9 बजे बाद लघु महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव पर दूध मिश्रित जल चढ़ाने से बड़े से बड़ा रोग और संकट भी टल जाता है। लघु महामृत्युंजय मंत्र इस प्रकार हैं-

ॐ जूं सं:

पंचाक्षरी मंत्र

ॐ नमः शिवाय को ही शिव का पंचाक्षरी मंत्र कहा जाता है। इसका नियमित रूप से जाप करना सभी संकटों से मुक्ति दिला देता है। साथ ही मृत्यु के पश्चात व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त होता है।

शिव भक्ति में मात्र शिव नाम स्मरण ही सारे सांसारिक सुखों को देने वाला है, विशेष रूप से शास्त्रों में बताए शिव उपासना के विशेष दिनों, तिथि और काल को तो नहीं चूकना चाहिए।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???