Patrika Hindi News
Bhoot desktop

69 विद्यालयों के मान्यता पर खतरा  

Updated: IST school
जनपद के 69 वित्त विहीन कॉलेजों की मान्यता खत्म करने की चेतावनी डीआईओएस कार्यालय ने दी है...

संतकबीर नगर.जनपद के 69 वित्त विहीन कॉलेजों की मान्यता खत्म करने की चेतावनी डीआईओएस कार्यालय ने दी है। इन कॉलेजों ने प्रधानाचार्यए शिक्षक के विशेेष प्रोत्साहन मानदेय के लिए मांगी जाने वाली सूचना देने में लापरवाही बरती है। शासन के निर्देश पर डीआईओएस ने इन विद्यालयों को सूची जमा करने का एक सप्ताह का समय दिया है।

प्रदेश सरकार ने वित्त विहीन शिक्षकों की मांग पर उन्हें प्रोत्साहन मानदेय देने की घोषणा की है। जिसके तहत वित्त विहीन विद्यालयों में कार्यरत अंशकालिक प्रधानाचार्यए शिक्षक का विशेेष प्रोत्साहन मानदेय भुगतान के लिए ब्यौरा सॉफ्ट कॉपी और हार्ड कॉपी में डीआईओएस कार्यालय ने 29 अगस्त को पत्र जारी कर मांगी थी। करीब साढ़े तीन माह बीतने के बाद भी जिले के 69 वित्त विहीन कॉलेजों ने सूचना नहीं दिया। जिस पर डीआईओएस ने इन विद्यालयों को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि विशेष प्रोत्साहन मानदेय से संबंधित सूचना उपलब्ध न हो सकी है।

जिससे उक्त कार्यरत अंशकालिक शिक्षकों को विशेष प्रोत्साहन मानदेय का भुगतान नहीं किया जा सका है। प्रकरण शासन की अतिमहत्वपूर्ण योजनाओं में सम्मिलित है। कार्यालय ने सभी विद्यालयों को एक सप्ताह में सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही यह भी चेतावनी दी है कि एक सप्ताह में सूची जमा नहीं हुई तो विद्यालय की मान्यता समाप्ति के लिए शासन को सूचना भेज दी जाएगी। जिसकी सारी जिम्मेदारी विद्यालयों की होगी।

डीआईओएस कार्यालय के पत्र की सूचना मिलते ही वित्त विहीन विद्यालयों में हड़कंप मचा हुआ है। डीआईओएस शिव कुमार ओझा ने बताया कि वित्त विहीन शिक्षकों को प्रोत्साहन मानदेय दिया जाना है। यह शासन की प्राथमिकता में है। वित्त विहीन विद्यालयों से शिक्षकों की सूची मांगी गई थीए लेकिन 69 विद्यालयों ने सूची जमा नहीं किया। जिससे शासन को सूचना नहीं भेजी जा सकी है। इन विद्यालयों को चेतावनी दी गई है कि एक सप्ताह में सूची जमा कर दे नहीं तो मान्यता समाप्ति के लिए शासन को पत्र भेज दिया जाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???