Patrika Hindi News

बिना कारण बताए राशन से कर रहे वंचित, 3 माह में 4 हजार कट चुके Ration Card

Updated: IST ration card holder complaint
खाद्य विभाग द्वारा हितग्राहियों का खाता आधार से लिंकअप नहीं होना बताया जा रहा कारण, जबकि कई हितग्राहियों का खाता आधार से लिंकअप होने के बाद भी काटे जा रहे नाम

अंबिकापुर. हितग्राहियों को मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना से वंचित करने का न तो सरकार का आदेश है और न ही इस संबंध में विधानसभा में कोई निर्णय जनप्रतिनिधियों द्वारा लिया गया है। लेकिन जिले के खाद्य अधिकारी की लापरवाही से पिछले तीन माह में 3 हजार 873 हितग्राहियों का राशन सूची से नाम कट गया।

अपनी इस गलती पर पर्दा डालने के लिए अब विभाग द्वारा हितग्राहियों का खाता आधार से लिंकअप नहीं होने का हवाला देकर इसका ठिकरा सरकार पर फोड़ा जा रहा है। जबकि हितग्राहियों ने आधार कार्ड से खाते का लिंकअप भी करा लिया है। इसके बावजूद वे तीन माह से राशन से वंचित है।

मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना के तहत 4 रंगों के कार्ड के आधार पर हितग्राहियों को पिछले कई वर्षों से मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना के तहत राशन का वितरण किया जा रहा है। लेकिन पिछले कुछ माह से जिले में हितग्राहियों के नाम राशन सूची से काटे जा रहे हैं और इसकी जानकारी तक उन्हें नहीं लग रही है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है इसका निर्धारण भी नहीं किया जा सका है।

पिछले 3 माह में शहर के 48 वार्डों में से अधिकांश वार्डों के हितग्राहियों के नाम राशन कार्ड की सूची से कट जा रहे हैं और उन्हें पता नहीं चल रहा है। जब हितग्राही राशन लेने दुकान पहुंचता है तो उसे राशन देने से इनकार कर दिया जाता है। लेकिन दुकान संचालक द्वारा नाम कटने का कोई उचित कारण नहीं बताया जाता है।

फर्जी राशन कार्ड काटने का है प्रावधान

ऐसे लोग जो शहर में रहते ही नहीं है लेकिन उनके नाम से राशन कार्ड भी बन गए हैं। ऐसे लोगों की जांच कर उनके नाम सूची से काटे जाने थे। लेकिन इसकी आड़ में विभाग के अधिकारी शहर के हजारों लोगों का नाम काट रहे हैं और उसके पीछे उचित कारण भी नहीं बता रहे हैं। इस संबंध में कई बार जनप्रतिनिधि भी शिकायत लेकर कलक्टर के पास पहुंच चुके हैं। इसके बावजूद अब तक इसकी जांच हेतु कोई पहल नहीं की गई है।

आधार से लिंकअप नहीं होने से हो रहे वंचित

आधार से खाता लिंकअप नहीं होने की जानकारी दे राशन से हितग्राहियों को वंचित किया जा रहा है। लगभग 26 हजार राशन कार्ड शहर में जिला खाद्य अधिकारी के कार्यालय से जारी किया गया था। इसमें से कई कार्डों में अब तक आधार नंबर सीडिंग नहीं हो सका है। दिसंबर माह तक तो हिग्राहियों को आधार सीडिंग न होने पर भी राशन का आबंटन किया गया था। परंतु फरवरी माह से ऐसे हितग्राहियों को जिनका आधार सीडिंग नहीं हुआ है उन्हें राशन नहीं दिया जा रहा है।

लिंकअप होने के बावजूद कट रहे हैं नाम

जिला खाद्य अधिकारी कार्यालय में प्रतिदिन ऐसे हितग्राही पहुंच रहे हैं जो आधार कार्ड भी जमा करा चुके हैं। इसके बावजूद उनके नाम सूची से काट दिए जा रहे हैं और उन्हें पिछले तीन माह से राशन से वंचित होना पड़ रहा है। इसे लेकर बुधवार को भाजपा पार्षद व नेता प्रतिपक्ष जन्मजेय मिश्रा, निरंजन राय, अवधेश सोनकर सहित अन्य लोगों ने जिला खाद्य अधिकारी से मुलाकात की।

पात्र हितग्राही का नहीं रोका जा सकता राशन

किसी भी हितग्राही का नाम सूची से काटा नहीं जा सकता है। जो भी पात्र हितग्राही हैं उनका राशन नहीं रोका जा सकता है। किसी का भी राशन रोका गया है तो वे सीधे मुझसे संपर्क कर सकते हैं।

टीएस सिंहदेव, नेता प्रतिपक्ष

फर्जी हितग्राहियों के काटे जा रहे नाम

फर्जी राशन कार्ड या फिर हितग्राही के नहीं मिलने पर उनके नाम काटे जा रहे हैं। इस संबंध में जांच कराकर पात्र हितग्राहियों के नाम जोड़े जाएंगे।

भीम सिंह, कलक्टर

बिना जांच किए काट रहे नाम

मुख्यमंत्री को पत्र लिखा गया है। आधार लिंकअप के आधार पर किसी भी पात्र हितग्राही का नाम नहीं काटा जा सकता है। लेकिन पिछले तीन माह में बिना जांच किए नाम काट दिए गए हैं। इसकी जांच कराकर संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

मधुसूदन शुक्ला, पार्षद

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???