Patrika Hindi News

> > > > Come still have empty pockets into account salary

Photo Icon नोटबंदी का side effect: खाते में सैलेरी आई फिर भी खाली है जेब

Updated: IST satna news
हर बैंक में लगी रही लाइन, एटीएम हुए कैशलेस, 184 बैंक शाखाएं हैं जिले में, 169 एटीएम जिले में हैं संचालित, 75 फीसदी की आ चुकी है तनख्वाह, 45 करोड़ रुपए कर्मचारियों की सैलरी आती है हर माह

सतना महीना खत्म होने के बाद किराने की दुकान का हिसाब करना है। बाई और दूध वाले को देना है। नया महीना शुरू होने पर इसके अलावा भी कई ऐसे जरूरी खर्चे हैं, जिनके लिए कैश की जरूरत है। कैसे मैनेज होगा, समझ में नहीं आ रहा है।स्टेट बैंक की मुख्य शाखा पहुंचे रहिकवारा निवासी बीपी विश्वकर्मा के मुंह से यह शब्द बरबस ही निकल आए

जब उन्हें बैंक के काउंटर से यह कहा गया कि कैश की कमी है। केवल चार हजार रुपए ही मिलेंगे। यह हाल बीपी विश्वकर्मा जैसे दूसरे लोगों का भी है। जिले के 17 हजार से अधिक कर्मचारियों और पेंशनधारियों में से अधिकतर की सैलरी आ गई, लेकिन वे अपने खाते से पैसा निकालने के लिए तरस रहे हैं।

20 हजार मांगने वाले को मिले सिर्फ 6 हजार

गुरुवार को ज्यादातर बैंकों का खजाना खाली रहा। एसबीआई को छोड़कर लगभग सभी बैंकों ने ग्राहकों को लौटना पड़ा। एसबीआई की शाखाओं से भी आधा अधूरा ही कैश मिला। 20 हजार रुपए मांगने वालों को 6 हजार और 10 हजार मांगने वालों को चार हजार रुपए मिले। बैंक अधिकारियों के मुताबिक गुरुवार को आरबीआई से किसी भी बैंक को कैश नहीं मिला। एसबीआई के पास बीते दिनों में आया कुछ कैश बाकी रहा। बाकी दूसरे बैंकों से ग्राहकों को बैरंग लौटना पड़ा।

बढ़ गई लाइन

नोटबंदी के 22 दिन बाद भी उसका साइड इफेक्ट जारी है। पिछले हफ्ते बैंकों और एटीएम के बाहर कतार कुछ छोटी हो गई थी, लेकिन दिसंबर की पहली तारीख को ही लाइन अचानक से बढ़ गई। बैंक खातों में सैलरी पहुंचने के बाद पिछले महीने का बकाया चुकता करने सहित अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए कैश की जरूरत इसकी मुख्य वजह मानी जा रही है। नोटबंदी के बाद एक सप्ताह तक बैंकों में जो हालात रहे, सैलेरी मिलने के बाद फिर उसी तरह की स्थिति बनने की संभावना जताई जा रही है।

बैंक से वापस लौटना पड़ा

बांधवगढ़ कालोनी निवासी मुनीराज सिंह 20 हजार रुपए का चेक लेकर बैंक पहुंचे, ताकि वेतन निकाल सके। लेकिन बैरंग लौटना पड़ा। बैंक अधिकारियों ने कहा कि कैश नहीं है और न ही आज आने की उम्मीद है। अधिकारियों ने कहा कि शुक्रवार को कैश आया तभी उपलब्ध हो सकेगा।

पूरे दिन परेशान हुए

पुष्पराज कालानी निवासी अक्षय शर्मा बैंक से रुपए निकालने पूरे दिन परेशान रहे। उन्होंने बताया कि इस माह बहुत ज्याद खर्च है। बैंक खाते में वेतन आने का मैसेज मिला तो बैंक में जा पहुंचे। वहां उनका खाता है। लेकिन बैंक से उन्हें कैश नहीं होने का हवाला देते हुए बैंक की दूसरी शाखा में भेज दिया गया। वहां गए, लेकिन वहां से भी वापस लौटना पड़ा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???