Patrika Hindi News

Photo Icon 50 रुपए में ले जाएं झोला भर सब्जी

Updated: IST satna news
नोटबंदी के संकट में सब्जियों ने दी राहत, हरी सब्जियों की आवक बढऩे से जमीन पर आए दाम, 20 दिन पहले जहां 100 रुपए खर्च करने के बाद भी सब्जी का झोला नहीं भरता था, वहीं अब सब्जियों के भाव जमीन पर आने से 50 रुपए में ही झोला भर सब्जी मिल जाती है।

सतना। नोटबंदी ने शादी वाले घरों के समक्ष तमाम संकट खड़े कर दिए हैं, लेकिन इस बीच इन घरों को एक राहत भी दी है। यह राहत मिली है सब्जियों के दाम में। अमूमन शादियों का सीजन आते ही दाम आसमान छूने लगते हैं, लेकिन इस बार नोटबंदी की वजह से ये दाम आम दिनों की अपेक्षा भी कम हैं। ऐसे में शादी वाले परिवारों के साथ ही आम नागरिकों को भी राहत मिली है।

20 दिन पहले जहां 100 रुपए खर्च करने के बाद भी सब्जी का झोला नहीं भरता था, वहीं अब सब्जियों के भाव जमीन पर आने से 50 रुपए में ही झोला भर सब्जी मिल जाती है।

विश्वासराव सब्जी मंडी में 20 दिन पहले थोक में आलू 18 रुपए प्रति किलो और प्याज 15 रुपए प्रति किलो बिक रहा था, लेकिन अब शादियों का सीजन शुरू होने के बावजूद इनके दाम आधे से भी कम हो गए हैं। अक्टूबर में 20 रुपए किलो बिकने वाली आलू के थोकभाव 12 रुपए किलो पर आ गए हैं।

हरी सब्जियां सबसे सस्ती

जिले की मंडियों में ग्रामीण अंचल से लोकल सब्जियों की आवक तेज हो गई है। जबकि नोटबंदी के कारण बाजार में सब्जियों की मांग घटी है। हरी सब्जियों का निर्यात कम होने से उनके दाम जमीन पर आ गए हैं। नवंबर के प्रथम सप्ताह में 20 रुपए किलो बिकने वाली लौकी अब पांच रुपए में मिल रही है।

महीने भर में घटे दाम

सब्जी 01 29

नवंबर नवंबर

आलू 18 रु. 14

टमाटर 20 15

प्याज 15 12

लौकी 15 5

गोभी 1नग 30 10

मूली 1 नग 2 1

बैगन 20 7

पालक 30 10

धनिया 200 40

हरी मिर्ची 80 40

( रेट रुपए प्रति किलो में )

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???