Patrika Hindi News

> > > > Supreme Court’s decision on the Road Safety Committee

Photo Icon चिह्नित होंगे हादसों के स्थल, सड़कों के ब्लैक स्पॉट को बनाना होगा प्रोटोकॉल

Updated: IST On Road Safety
सुप्रीम कोर्ट की आन रोड सेफ्टी कमेटी का निर्णय, उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित कमेटी आन रोड सेफ्टी द्वारा दिए निर्देशों के पालन में मध्यप्रदेश सड़क सुरक्षा पर 14 जुलाई को अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई थी।

सतना। शहर की सड़कों के ऐसे स्थल जहां लंबे समय से हादसे होते चले आ रहे हैं या ऐसे स्थल जहां हादसों की संभावना है उनका निर्धारण कर प्रोटोकाल तय करना होगा। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट की ऑन रोड सेफ्टी कमेटी के निर्देश निगमायुक्त सहित सभी नगरीय निकायों को जारी किए गए हैं।

अपर आयुक्त नगरीय प्रशासन ने बताया है कि उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित कमेटी आन रोड सेफ्टी द्वारा दिए निर्देशों के पालन में मध्यप्रदेश सड़क सुरक्षा पर 14 जुलाई को अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई थी।

इसमें सबसे ज्यादा विचार नगरीय क्षेत्र में होने वाले सड़क हादसों पर किया गया। पाया गया कि कई ऐसे स्थल हैं जहां लगातार हादसे होते चले आ रहे हैं। ऐसे स्थल भी हैं जहां हादसों की संभावना है।

इन स्थलों को ब्लैक स्पाट मानते हुए इसका प्रोटोकाल बनाने का निर्णय लिया गया है। इसके सुधार के लिये वार्षिक कैलेंडर तैयार करने को कहा गया। कहा गया कि इन ब्लैक स्पाट को 500 मीटर की चैनेज सीमा निर्धारित कर उनकी सूची तैयार की जाए।

यहां होते हैं आए दिन हादसे

शहर में सबसे ज्यादा ब्लैक स्पॉट कोठी तिराहे से लेकर बगहा तक हैं। यहां अब तक 9 मौतें हो चुकी हैं। ममता बाल विद्या मंदिर के आगे वाले मोड़ पर 6 लोगों की सड़क दुर्घटना में मौत हो चुकी है। महापौर निवास के पास वाले मोड़ पर 3 मौतें हो चुकी हैं। अमहाई मोड़ पर रोज हादसे होते हैं। दर्जनभर लोग गंभीर घायल हो चुके हैं। सीताराम पेट्रोल पंप के सामने भी दो लोगों की मौत हो चुकी है।

पेप्टेक सिटी के सामने चार मौत

सोहावल मोड़ चौराहा पेप्टेक सिटी के सामने अब तक चार मौत हो चुकी है। शहर के इन ब्लैक स्पाट के अलावा सबसे ज्यादा चर्चित जिले का ब्लैक स्पाट उचेहरा में उचेहरा-नागौद मोड़ तिराहा है। यहां आये दिन हादसे होते हैं और आधा दर्जन से ज्यादा जान जा चुकी है। तिघरा मोड़ में ही दुर्घटनाएं होती हैं। अमरपाटन में सतना तिराहा भी हादसों के लिये पहचाना जाता है।

हाइवे पर भी चिह्नित होंगे

नेशनल हाइवे, स्टेट हाइवे और महत्वपूर्ण मार्गों पर पूर्व से चिह्नित ब्लैक स्पाट में किए गए सुधार की भी जानकारी चाही गई है। निर्देश दिये हैं कि जिलास्तर पर 30 सितंबर तक निर्माण एजेंसी के इंजीनियर एवं पुलिस विभाग के अधिकारी संयुक्त भ्रमण कर अपने क्षेत्र के चिह्नित ब्लैक स्पाटों की समीक्षा करेंगे। अधिकतम स्पीड सहित अन्य संकेतकों को प्रमुखता से लगाने कहा गया है।

नए निर्माण में खत्म किया जाए

10 करोड़ से अधिक लागत वाली सड़कों के निर्माण के पूर्व ही निर्माण एजेंसी द्वारा डिजाइस स्टेज में ही ब्लैक स्पाट को चिह्नित करते हुए उसे खत्म करने को कहा गया है। साथ ही सड़क निर्माण कार्य में संलग्न इंजीनियरों की मास्टर ट्रेनिंग कराने को कहा गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे