Patrika Hindi News

> > NASA can’t explain Titan’s ’impossible’ cloud

नासा के पास नहीं टाइटन के 'असंभव' बादल का रहस्य

Updated: IST titan
नासा के कैसिनी अंतरिक्ष यान ने शनि ग्रह के सबसे बड़े चंद्रमा टाइटन पर बर्फ का एक रहस्यमय बादल देखा है

वॉशिंगटन। अमरीकी स्पेस एजेंसी नासा के कैसिनी अंतरिक्ष यान ने शनि ग्रह के सबसे बड़े चंद्रमा टाइटन पर बर्फ का एक रहस्यमय बादल देखा है और यह घटना टाइटन के वातावरण के बारे अब तक ज्ञात सभी तथ्यों के लिए एक चुनौती पेश करती है।

इस तरह का बादल पहली बार दशकों पहले नासा के वोयागर1 स्पेसक्राफ्ट द्वारा देखा गया था और यह एक बार फिर से दिखाई दिया है। आश्चर्य यह है कि यह बादल कुछ ऐसे कपाउंड्स से बना है जो शनि ग्रह के इस सबसे बड़े चंद्रमा टाइटन के वातावरण में मुश्किल से ही मिलते हैं। ऐसे में वैज्ञानिकों के आगे यह सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर यह बादल आए कहां से?

हमारी सोच से परे है यह बादल

नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में सीआईआरएस के लीड रिसर्चर कैरी एंडरसन का कहना है कि बर्फ के इन बादलों का प्रकट होना उस हर चीज से बिलकुल अलग है जो अभी तक हम टाइटन के बारे में जानते थे। टाइटन के समतापीय मंडल में मौजूद यह बादल डी.साइनोएसिटिलीन (सी4एन2) गैस से बना है। सी4एन2 कार्बन और नाइट्रोजन का मिश्रण है जो विशाल टाइटन का अस्पष्ट भूरे..नारंगी रंग का वातावरण तैयार करता है।

Image result for titan cloud

आखिर कैसे बने बादल

नासा ने कहा कि इस बादल को देखने के बाद वैज्ञानिक इस बात से परेशान हैं कि बादल को संघनित होने के लिए डी.साइनोएसिटिलीन गैस के एक फीसदी से भी कम हिस्से की जरूरत है। कैसिनी के कम्पोजिट इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोमीटर या सीआईआरएस का उपयोग कर अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि हिमीकृत हो चुके कुछ रसायन से एक विशाल बादल बना है।

साधारण भाषा में कहें तो थर्मोडायनेमिक्स के हमारे वर्तमान ज्ञान के अनुसार टाइटन के वातावरण में इतना सी4एन2 है ही नहीं कि उसकी मदद से यह बादल बनाया जा सके।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे