Patrika Hindi News

हमने तो पार्षद के कहने पर सरकारी जमीन पर मकान बनाए हैं 

Updated: IST MP government land
मंडी वार्ड-23 में सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने गए एसडीएम और तहसीलदार से महिलाओं ने कहा

सीहोर। साहब! हमने तो यहां पूछकर निर्माण किया है। वार्ड पार्षद से हमने पूछा था। पार्षद ने कहा बना लो, हमने मकान बना लिए। अब आप जमीन को सरकारी बताकर हमारे घर तोड़ रहे हो। यह बात गुरुवार को शहर के मंडी वार्ड-23 के शासकीय मनुबेन कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के पीछे सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने गए एसडीएम राजकुमार खत्री और तहसीलदार संतोष मुदगल से अतिक्रमणकारी महिलाओं ने कही।

महिलाओं की शिकायत को अनसुना कर राजस्व अमले ने सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाना शुरू कर दिया। एसडीएम खत्री ने बताया कि हमने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कराने को लेकर पार्षद रामप्रकाश चौधरी से पूछताछ की है तो उन्होंने बताया है कि अतिक्रमणकारी गलत कह रहे हैं। मैंने किसी से सरकारी जमीन पर मकान बनाने की नहीं कहा है। जानकारी के अनुसार मनुबेन स्कूल के पीछे स्थित जलाशय की पाल और तालाब के अंदर तक कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर मकान बना लिए गए हैं। इस अतिक्रमण में कुछ मकान तो जहां दो-दो साल पुराने हैं, वहीं कुछ महीने पूर्व ही बने बताए गए हैं। दर्जनभर से अधिक इन कच्चे मकानों में से कई को तो नगर पालिका द्वारा समग्र स्वच्छता अभियान के तहत शासकीय भूमि पर शौचालय भी स्वीकृत कर दिए है। कुछ बनकर तैयार भी हो गए है। जब इस बात की शिकायत हुई तो गुरुवार को राजस्व अमला पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचा और सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???