Patrika Hindi News

हर तीसरा परिवार गरीब बन ले रहा था सरकारी योजनाओं का लाभ

Updated: IST Sehore
शहर के 35 वार्डों में 10 हजार 772 कार्डधारियों में से 3280 के किए राशन कार्ड निरस्त, शहर में सबसे अधिक 268 फर्जी गरीब परिवार वार्ड नंबर दस में मिले

सीहोर. शहर में बीपीएल सूची का लगभग हर तीसरा परिवार गरीब बनकर शासकीय योजनाओं का लाभ ले रहा था। गरीबी रेखा में नाम जुड़वाकर शासकीय योजनाओं का लाभ लेने वालों की पोल उजागर हो गई है। शहरी क्षेत्र में 10 हजार 772 बीपीएल कार्डधारियों की जांच उपरांत 3280 फर्जी गरीब मिले हैं। इनमें शहर के वार्ड नंबर दस में सबसे ज्यादा 268 फर्जी गरीब बनकर शासन की योजना का लाभ ले रहे थे। जिला प्रशासने ने फर्जी गरीब बने परिवारों के नाम सूची से काट दिए हैं।

गलत तरीके से गरीबी रेखा की सूची में शामिल होकर सरकारी योजनाओं के फायदे ले रहे असरदार नकली गरीबों के नाम काटे जाने की संख्या 3280 तक पहुंच गई हैं। इस सूची में ऐसे लोगों के नाम शामिल हैं जो रसूखदार हैं। तीन मंजिला घर हैं लेकिन इसके बाद भी वह गरीबों को मिलने वाली योजनाओं का फायदा उठा रहे थे।

बीपीएल सूची में अपात्र मिले लोगों में अनेक रसूखदारों के नाम भी शामिल हैं। शहर के 35 वार्डों में के सर्वे में सामने आए नामों में वार्ड दस में में सबसे अधिक 268 लोगों के नाम काटे गए हैं। इसके अलावा दूसरे नंबर पर वार्ड 14 में 214, वार्ड 32 में 193, वार्ड 23 में 164 और वार्ड आठमें 162 परिवारों के नाम शामिल हैं।

शहरी क्षेत्र में शासकीय योजनाओं में का लाभ लेने 32800 नकली गरीबों के बीपीएल सूची से नाम काट दिए हैं। कुछ गरीब बने लोगों रसूखदारों के नाम भी सामने आए हैं, जिनके नाम उजागर किए जा रहे हैं। - राजकुमार खत्री, एसडीएम सीहोर

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???