Patrika Hindi News

अपर संचालक ने प्राचार्यों से किया वन-टू वन

Updated: IST School
तीन दर्जन से अधिक प्राचार्यों से बोले, 80 से 90 प्रतिशत से कम नहीं होना चाहिए इस साल का रिजल्ट

सीहोर। पिछले साल हाईस्कूल परीक्षा में 52 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों की प्राचार्यों की शुक्रवार को क्लास लगी।

लोक शिक्षण संचलनालय के अपर संचालक डीएस कुशवाहा ने एक्सीलेंस स्कूल में प्राचार्यों को स्पष्ट रूप से कहा कि इस साल हाईस्कूल में परीक्षा में स्कूलों का परीक्षा परिणाम 80 से 90 प्रतिशत से कम नहीं होना चाहिए। इसके लिए विद्यार्थियों की परीक्षा की तैयारी में कही कोई कोर कसर नहीं छोड़े।

एक्सीलेंस स्कूल में अपर संचालक ने प्राचार्यों से वन-टू-वन करते हुए कहा कि सीहोर जिले को हाईस्कूल परीक्षा में भोपाल संभाग का रिजल्ट के मामले में प्रथम स्थान पर लाना है। उन्होंने कहा कि अभी भी हाईस्कूल परीक्षा में करीब डेढ़ माह का समय है। इसके लिए विद्यार्थियों के साथ प्राचार्यों को भी जुटना होगा। उन्होंने प्रचार्यों से बेहतर लक्ष्य की पूर्ति करने के निर्देश दिए। उन्होंने टिप्स देते हुए कहा कि स्कूलों के ई ग्रेड के बच्चों को निदानात्मक कक्षाओं के माध्यम से डी से ए ग्रेड में लाने के लिए शिक्षक और अधिक मेहनत के सुझाव दिए।इस अवसर पर डीईओ अनिल कुमार वैद्य ने विचार व्यक्त करते हुए बेहतर परिणाम के लिए पूरी ताकत झोंकने की बात की। एक्सीलेंस स्कूल के समन्वयक प्राचार्य आरके बांगरे ने बेहतर परिणाम कैसे आते हैं। इसकी जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि अपर संचालक द्वारा दिए गए मार्गदर्शन और निर्देशों की शिक्षा जगत में सर्वत्र प्रशंसा की जाती है। जिले में पिछले साल हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम 63 प्रतिशत था।जिले में इस साल परीक्षा परिणामों को 90 प्रतिशत करने के बेहतर परीक्षा परिणाम के लिए प्राचार्यों को आज से ही कमर कस लेना चाहिए। इस अवसर जिले के समस्त संकुल प्राचार्य, बीईओ एवं हाईस्कूल प्राचार्य भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???