Patrika Hindi News

Photo Icon प्रवेशोत्सव : एक साल से उड़ी छत, यहां पढ़ेंगी भांजियां

Updated: IST seoni
सीमित कमरों में क्षमता से अधिक पढऩे मजबूर छात्राएं

सिवनी. इन दिनों जिले भर के शासकीय स्कूलों में प्रवेशोत्सव चल रहा है। इसके लिए शासन-प्रशासन से विशेष तैयारियां व प्रचार-प्रसार किया गया है और राशि भी आवंटित की गई है। इन सबके बावजूद छपारा के तकियावार्ड स्थित शासकीय कन्या माध्यमिक शाला की दुर्दशा पिछले साल जैसी वैसी अभी भी है। जबकि इस स्कूल का दौरा कलेक्टर ने किया था तब स्कूल को मरम्मत के निर्देश दिए थे। लचर कार्यप्रणाली व हीलाहवाली के चलते स्कूल भवन की दशा में कोई सुधार अब तक नहीं किया जा सका।

प्रवेशोत्सव में अभिभावक, छात्र चिंतित

स्कूल भवन प्राचीन होकर भी काफी मजबूत है लेकिन जीर्णशीर्ण छत, टूटी म्यांर, टूटे खप्पर आदि को बदलने की सुध कोई नहीं ले रहा है। प्रवेशोत्सव में अपने बच्चों का स्कूल में दाखिला कराने पहुंच रहे अभिभावकों का मन इस स्कूल में दाखिला दिलाने में आगे पीछे हो रहा है। वहीं छात्राएं भी दूसरे स्कूल में एडमिशन लेने का मन बना रही हैं। स्कूल के दो-तीन कमरें जो पिछले कुछ वर्षों से अत्यधिक जर्जर हो चुके हैं। छत से खप्पर गिरकर किसी छात्रा को लग न जाए इसके लिए स्कूल प्रबंधन ने ऐसे कमरों में स्थायी तौर पर ताला लगा दिया है। वहीं क्षेत्रवासियों का कहना है कि यह कोई समस्या का समाधान नहीं है। बंद कमरों में विषैले जीव-जन्तु अपना डेरा जमा सकते हैं और कभी भी कोई हादसा घट जाए इससे इंकार भी नहीं किया जा सकता है।

Image may contain: plant and outdoor

शासकीय कन्या माध्यमिक स्कूल की पढ़ाई का स्तर अच्छा होने के कारण यहां छपारा व आसपास के गांव की छात्राएं बड़ी संख्या में पढऩे आती हैं। पिछले साल यहां कमरों की कमी के बावजूद भी 216 छात्राएं अध्ययनरत थीं। वहीं प्रवेशोत्सव में अब तक 9 छात्राओं ने दाखिला लिया है। स्कूल में कुल छह कमरे हैं। जिसमें दो कमरों की छत उड़ जाने से उसे पिछले साल से ही बंद कर दिया गया है। शेष चार कमरों में ही साल भर किसी तरह से 216 छात्राओं की पढ़ाई हो सकी। स्कूल के पीछे बन रहे छात्रावास भवन के निरीक्षण में पहुंचे कलेक्टर व एसई ने जनभागीदारी से भवन मरम्मत कार्य किए जाने का आश्वासन दिया था।

इनका कहना है

स्कूल भवन का मरम्मत कार्य होना जरूरी है। हालांकि इसके लिए उच्चाधिकारियों को भवन की दशा के विषय में अवगत कराया जा चुका है।

ए. पटवा, प्रधानपाठक, शास. कन्या माध्य. शाला छपारा।़

इनका कहना है

बदहाल स्कूल की मरम्मत जल्द कराई जाए, ताकि छात्राओं को पढ़ाई में किसी भी प्रकार की असुविधाओं का सामना न करना पड़े।

जयकेश सिंह, जिला पंचायत सदस्य, छपारा

इनका कहना है

स्कूल की छत में प्रोफाइल सीट डाली जाएगी। स्टीमेट आ चुका है। एक-दो दिन में स्वीकृत हो जाएगा। 75 प्रतिशत जनभागीदारी की राशि से और शेष 25 प्रतिशत कार्य अभिभावकों, समाजसेवियों के सहयोग से होगा।

एसआर मरावी, जिला योजना अधिकारी सिवनी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???