Patrika Hindi News

बिना आदेश के राजस्व निरीक्षकों की हड़ताल  समाप्ति पर संशय, पड़ी फूट

Updated: IST seoni
पटवारी संघ की मांगें नहीं मानी गई, प्रदेश के 25 जिलों में हड़ताल जारी रहने के दिए संकेत

सिवनी. अपनी विभिन्न मांगों को लेकर एक ही पंडाल पर बैठे राजस्व निरीक्षक व पटवारियों की बीते कुछ दिनों से जारी हड़ताल में शुक्रवार को राजस्व निरीक्षक संघ द्वारा हड़ताल समाप्ती की घोषणा के साथ ही हड़ताल जारी रखने और समाप्त किए जाने पर विवाद की स्थिति निर्मित हो गई है। आरआई संघ के अध्यक्ष फिरोज अली का आडियो वायरल हो गया है।

फिरोज अली प्रांताध्यक्ष, नरेश राजपूत कार्य अध्यक्ष, देवेन्द्र शुक्ला महासचिव, सुरेश सिंह कोषाध्यक्ष ने वाट्सएप के माध्यम से सभी राजस्व निरीक्षक साथियों को सूचित करते हुए बताया कि राजस्व मंत्री, वित्तमंत्री, लोकनिर्माण मंत्री, मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव व मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मिश्रा से हुई सार्थकवार्ताओं उपरान्त मप्र राजस्व निरीक्षक संघ ने निम्न मांगों को पूर्ण किए जाने के आश्वासन पर राजस्व निरीक्षक संवर्ग के भविष्यगत हित को ध्यान में रखते हुए अपना आंदोलन वापस लिया है। जिसके तहत वेतमान पर ग्रेड पे 2800, स्टेशनरी भत्ता 500 रुपए व समयमान वेतनमान। उन्होंने सभी साथियों से कहा है कि वे हड़ताल समाप्त कर अपने कत्र्तव पर वापस लौटें और सभी जिलाध्यक्ष अपने जिला कार्यालय में इसकी सूचना दें।

वहीं राजस्व निरीक्षक संघ की प्रांतीय कार्यकारिणी के इस कार्य से राजस्व निरीक्षक संघ के कुछ जिला अध्यक्षों में हड़ताल समाप्ति को लेकर मतभेद है। हेमन्त ने फिरोज अली से फोन पर पूछा कि बिना आदेश के हड़ताल कैैसे समाप्त कर दिया गया। जो हुआ है वह गलत है। आरआई संघ को लिखकर देंगे तब ही हड़ताल खत्म होगी। उन्होंने कहा कि अब तक उनकी 33 जिला अध्यक्षों से बात हुई है। प्रांतीय कार्यकरणी की लिखित में जवाब आने मात्र से हड़ताल खत्म नहीं होगी। 25 जिले में तो हड़ताल जारी रहेगी। वहीं उन्होंने प्रांताध्यक्ष से कहा कि हम नहीं चाहते आपकी किरकिरी नहीं होगी। शासन से जो डिलिंग हुई है वह लिखित में दें। आदेश के बाद ही हड़ताल समाप्त होगी वरना राजस्व निरीक्षकों की हड़ताल जारी रहेगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???