Patrika Hindi News

खून की कमी को देखकर आगे आए पुलिस कर्मी

Updated: IST Police personnel coming forward after seeing blood
थाना-चौकियों के पुलिस कर्मचारियों ने किया रक्तदानडॉक्टर बोले जागरूकता की आवश्यकता

डिंडोरी। पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद एवं एएसपी सुनीता रावत के निर्देश पर जिले के विभिन्न थाना-चौकियों में पदस्थ पुलिस कर्मचारियों ने जिला अस्पताल के ब्लड बैंक पहुंचकर रक्तदान किया। रक्तदान करने वाले पुलिस कर्मचारियों में महिला पुलिस कर्मी भी बड़ी संख्या में मौजूद रहीं। पुलिसकर्मी द्वारा सामाजिक कदम उठाने पर एक तरफ जहां पुुुुुुुलिस के आलाअधिकारी उन्हें बधाई दे रहें हैं, वहीं जिला अस्पताल के अधिकारी भी पुलिस कर्मियों को शुभकानएं देते नहीं थक रहे हैं। जिला अस्पताल में हमेशा से ही ब्लड का अभाव बना रहता है, ऐसे में पुलिस द्वारा लोगों की जागरूकता के लिए उठाया गया कदम लोगों में चर्चा का विषय बन गया है। पहले ही दिन 16 यूनिट ब्लड दान किया गया वहीं आज भी पुलिस क र्मी रक्तदान करेंगे।
पुलिस अधिकारियों के निर्देश के बाद नगर से यातायात थाना का स्टॉफ, पुलिस लाईन, कोतवाली, शाहपुर थाना और महिला थाना के महिला-पुरूष पुलिस कर्मचारी जिला अस्पताल की ब्लड बैंक पहुंचे। जहां ब्लड बैंक प्रभारी डॉक्टर बीपी कोले के नेतृत्व में 16 पुलिस कर्मचारियों ने रक्तदान किया। रक्तदान करने वाले पुलिस कर्मचारियों में महिला पुलिस कर्मियों में भी काफी उत्साह देखा गया। महिला सैल की अधिकांश महिला कर्मियों ने रक्तदान किया। कहा कि रक्तदान जीवन दान है। वहीं मंगलवार को भी पुलिस द्वारा रक्तदान किया जाएगा। जिसमें बड़ी संख्या में पुलिस कर्मियों के पहुंचने की संभावना है।
रक्तदान करने वाले पुलिस कर्मियों में पुलिस लाईन से सूबेदार कृष्णा मिश्रा, प्रआर सुनील झिकराम, बायरलेस से राजीव ठाकुर, कोतवाली से ओमसिंह ठाकुर, हरनाम सिंह, हरेसिंह सैयाम, यातायात से भरत लाल बंसल, भूरेसिंह ठाकुर, छोटेलाल देशिया, शाहपुर थाना से शिवा पटेल, राजू मरावी, योगेश्वरी तेकाम, महिला सेल से राजकुमारी विंझी, प्रीतिमा पटेल, बबीता सिंह तेकाम, दीपमाला नागले के नाम शामिल हैं।
गौरतलब है कि जिला अस्पताल की ब्लड बैंक में 200 यूनिट ब्लड रखने की छमता होने के बाद भी ब्लड बैंक में न के बराबर ब्लड उपलब्ध रहता है। खून की कमी से जूझ रहे ब्लड बैंक के कारण आए दिन लोग ब्लड के लिए भटकते देखे जाते हैं। अनेकों मामलों में खून न मिलने के कारण लोगों की जान भी जा चुकी है। चूंकि लोगों में जागरूकता का अभाव है और लोग रक्तदान करने से कतराते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक लोगों में यह भ्रम है कि रक्तदान करने से शरीर कमजोर हो जाता है और बीमारियां घेर लेती हैं, जबकि वास्तविकता में ऐसा है नहीं। रक्तदान एक पुण्य का कार्य है, रक्तदान करते हैं तो आपका खून दोबारा बन जाएगा और दूसरे को जीवन दान भी मिलेगा।
वहीं पुलिस द्वारा रक्तदान करने के बाद डॉक्टर अब नगर के विभिन्न संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं से अपील कर रहे हैं, कि वे अपना ब्लड डोनेट करें, ताकि जरूरत मंद लोगों को नई जिंदगी दी जा सके। जिला अस्पताल की ब्लड बैंक में हमेशा ही ब्लड का अभाव रहता है, लिहाजा लोगों को आगे आना चाहिए।
पुलिस द्वारा रक्तदान इसलिए किया गया है ताकि लोगों में मानवता का संदेश जाए, लोग भ्रम में न रहें कि रक्तदान से चक्कर आते हैं, शरीर कमजोर होता है।
धीरेंद्र सिंह
पुलिस पीआरओ डिंडोरी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???