Patrika Hindi News

नए आवेदनों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना का शटर डाउन

Updated: IST Began  "everybody home" to give government drill
सर्वे सूची से बंचित आवासहीनों का बिखर रहा सपना

शहडोल- प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत नए आवेदनों को तरजीह देना बंद कर दिया गया है।नए आवेदनों के लिए फिलहाल शटर डाउन कर दिया गया है।अब वर्ष 2011 में किए गए अर्थिक सामाजिक गणना के आधार पर आवास हीनों को आवास देने की पहल चल रही है।जिसमें 13 हजार 7 सौ आवासों को योजना के तहत मंजूरी मिल चुकी है।इसमे 11 हजार आवास हीनों के खाते में पहली किस्त की राशि भी जारी कर दी गई है। लेकिन नए आवासों के लिए आवेदन लेना दिल्ली सरकार के निर्देश पर विराम लगा दिया गया है। जिससे सर्वे की सूची से बंचित लोगों का अपने घर का सपना बिखर रहा है
पंाच साल पहले हुए सर्वे पर हो रहा कार्य
केन्द्रीय सरकार के निर्देश पर पांच साल पहले प्रदेश के साथ जिले में भी आर्थिक, सामाजिक आधार पर सर्वे कराया गया था। उसी आधार पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहडोल जिले मे करीबन 14 हजार आवास बनाना है। जिसमें अब कुछ फौत हो चुके है,कुछ की आर्थिक हैसियत बढ़ घट गई है। जिससे आवास निर्माण एजेंसी को परेशानी भी हो रही है। इस दोरान लोगो की हैसियत घटी भी है। जो आवास बनाने के लिए आवेदन करना चाहते है।लेकिन उनके आवेदनों को स्वीकार नही किया जा रहा है।
सूची से गायब लोगों के अरमान अधूरे
जिले के पाचों जनपदो में हजारों आवेदक आवास की मांग को लेकर भटक रहे है। लेकिन पुराने सर्वे के चलते उनके अरमान पूरे नहीं हो रहे है।वैसे तो प्रदेश के शहडोल जिले में सर्वाधिक आवास बनाने का लक्ष्य दिया गया है। लेकिन पुरानी सर्वे सूची से छूटे आवासहीन निराश हो रहे है। ऐसे लोगों के नाम सूची मे जोडऩे के लिए जिला स्तर के अधिकारी भी असहाय बने हुए है।अधिकारी चाहकर भी किसी का नाम जोड़ नहीं सकते।जिसका खामियाजा आवास हीनों के खाते में जा रहा है।
मुद्रिका सिंह जनपद सीईओ सोहागपुर प्रधानमंत्री अवास योजना के तहत नए आवेदन कम्प्यूटर स्वीकार नहीं कर रहा है।पुराने सर्वे के आधार पर जिले में 14 हजार गरीबों के लिए आवास बनाने है। जिसके लिए मंजूरी मिल गई है। इसमे 11 हजार से अधिक आवास हीनों के खाते में लागत की पहली किश्त 40 हजार रुपए उनके खाते में डाल दी गई है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???