Patrika Hindi News

> > > > Internal clash in BJP

सपा के बाद भाजपा में भी सुलग रही आग, जल्द हो सकता है 'गृह युद्ध'

Updated: IST narendra Modi Amit Shah
भले ही अब तक बसपा और सपा में लगी आग से भाजपा ने हाथ सेके हों लेकिन अब भाजपा के भीतर से उठे धुंए को शांत न किया गया तो ये शोला बनकर भी सामने आ सकता है।

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले जिस तरीके से बसपा और सपा में अंतर्कलह चल रही है उसका फायदा जमकर भाजपा उठा रही है। वहीं भाजपा में भी 'गृह युद्ध' के हालात बन रहे हैं। इसका कारण है भाजपा में अन्य दलों से आए नेता। भाजपा के पुराने नेता और कार्यकर्ता पार्टी के खिलाफ बिगुल फूंकने की तैयरी में है।

आधा दर्जन खेमे हुए तैयार

पिछले कई दिनों से शाहजहांपुर में टिकिट पाने की होड़ में जो भाजपा कार्यकर्ता एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगे हैं, उससे तो यही साफ़ होता है कि अब भाजपा में भी गृह युद्ध शुरू हो गया है। दरअसल शाहजहांपुर में पहले से ही भाजपा दो खेमों में बंटी हुई थी। जिसमें एक खेमा केंद्रीय मंत्री कृष्णाराज का तो एक खेमा शाहजहांपुर के नगर विधायक और भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुरेश कुमार खन्ना का है। लेकिन अब जैसे ही सपा और बसपा के नेता अपनी अपनी पार्टियों को छोड़ भाजपा में आये शाहजहांपुर में आधा दर्जन गुट तैयार हो गए।

टिकट के लिए जद्दोजहद

इसकी खास वजह है विधानसभा उम्मीदवारी की टिकट। दूसरी पार्टियों को छोड़ भाजपा में आए नेताओं ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में जोड़ तोड़ कर चुनाव प्रचार शुरू दिया है। वहीं दूसरी और भाजपा के पुराने नेता और कार्यकर्ताओं ने साफ़ तौर पर कहा है कि अगर भाजपा ने दल बदलू नेताओं को टिकिट दिया तो इसका वो लोग जमकर विरोध करेंगे। जिसका खामियाजा भाजपा को चुनाव में भुगतना पड़ेगा।

सपा-बसपा से भाजपा में आए नेता

दरअसल शाहजहांपुर की तिलहर विधानसभा से बसपा विधायक रोशनलाल वर्मा और पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री बसपा छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। कटरा विधानसभा से सपा के विधायक राजेश यादव् के भाई भी टिकट के लालच में भाजपा में आ गए हैं। इस तरह से तमाम नेताओं ने टिकिट के लालच में भाजपा में आकर अपना चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है। इन दलबदलुओं में कुछ तो भाजपा विधायक सुरेश खन्ना और कुछ केंद्रीय मंत्री कृष्णाराज से ताल्लुक रखते हैं।

भाजपा जिलाध्यक्ष ने भी स्वीकार की गुटबंदी

भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं के आपसी विरोध को भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश मिश्रा भी स्वीकार कर रहे हैं और उनका कहना है कि वो जल्द ही कार्यकर्ताओं के बीच पनप रहे विरोध को शांत कर लेंगे। आपको बता दें कि भाजपा के नगर विधायक सुरेश कुमार खन्ना और और केंद्रीय मंत्री कृष्णाराज और उनके कार्यकर्ताओं के बीच वर्चश्व की लड़ाई हमेशा ही बनी रही। दोनों के किसी भी धरना प्रदर्शन में एक दूसरे के कार्यकर्ता कभी शामिल नहीं होते हैं। इसलिए भले ही अब तक बसपा और सपा में लगी आग से भाजपा ने अभी तक अपने हाथ सेके हों लेकिन अब भाजपा के भीतर से उठे धुंए से ये तो तय है कि अगर इसे दबाया न गया तो जल्दी ही ये शोला बनकर भी सामने आ सकता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे