Patrika Hindi News

> > > > The principal does is rape in coaching class, court sentencing hearing

कोचिंग में नाबालिग से प्राचार्य करता था बुरा काम, अदालत ने सुनाई सजा

Updated: IST The principal does is rape in coaching class, cour
कोचिंग पढऩे वाली छात्रा सेप्राचार्यबुरा काम करता था। उसने कई बार दुष्कर्म किया। शाजापुर विशेष न्यायाधीश की अदालत ने आजीवन कारावास की सजा दी है।

शाजापुर. गुरु ने अपनी मर्यादा लांघकर 7वीं में पढऩे वाली छात्रा से एक माह में कई बार दुष्कर्म किया। नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म करने वाला यह गुरु कोई ओर नहीं, बल्कि निजी स्कूल का प्राचार्य था, जिसको अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

घर आती थी पढऩे
कालापीपल के सहारा पब्लिक स्कूल का यह प्राचार्य कोचिंग पढऩे वाली छात्रा से बुरा काम करता था। एक माह में उसने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया। शाजापुर विशेष न्यायाधीश की अदालत ने फैसला सुनाते हुए उसे आजीवन कारावास की सजा दी है। प्राचार्य अपने घर कोचिंग पढऩे आने वाली 12 वर्षीय छात्रा के साथ करीब माह तक दुष्कर्म करता रहा। छात्रा ने पेट दर्द होने पर परिजनों की इसकी जानकारी दी। इस पर परिजनों ने कालापीपल थाने पहुंचकर प्राचार्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। मामले में शाजापुर विशेष न्यायाधीश आरके भावे की अदालत ने सोमवार को फैसले में दुष्कर्मी प्राचार्य को अलग-अलग धाराओं में आजीवन कारावास की सजा से दंडित कर जेल भेज दिया।

अकेले में बुलाता था पढ़ाने
प्रकरण के अनुसार कालापीपल के सहारा पब्लिक स्कूल के प्राचार्य तपन पिता अलीमन मिश्रा निवासी उड़ीसा हाल मुकाम नारायण कॉलोनी कालापीपल ने स्कूल की छात्रा को अन्य बच्चों के साथ कोचिंग पढऩे बुलाया था। मिश्रा पहले सभी बच्चों के साथ कोचिंग पढ़ाता था, लेकिन एक माह के बाद उसे शाम 6-7 के बीच अलग से कोचिंग पढऩे बुलाने लगा। इस दौरान प्राचार्य मिश्रा के बच्चे भी पीडि़ता के साथ कोचिंग पढ़ते थे। कोचिंग के बीच में ही मिश्रा पीडि़त छात्रा को दूसरे कमरे में सामान लेने के बहाने भेज देता और स्वयं भी वहां पर पहुंचकर उसके साथ दुष्कर्म करता था।

छात्रा बोली कई बार किया गंदा काम
पीडि़ता ने पुलिस रिपोर्ट में बताया कि 5 जून से 10 जुलाई 2015 के बीच मिश्रा ने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया। इस मामले में कालापीपल पुलिस ने प्राचार्य तपन मिश्रा के खिलाफ दुष्कर्म की धारा सहित लैंगिक अपराधों से बालकों के संरक्षण अधिनियम और एससीएसटी एक्ट में प्रकरण दर्ज कर उसे अजाक पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस ने मामले में कोर्ट चालान प्रस्तुत किया। साक्ष्यों के बाद विशेष न्यायाधीश आरके भावे ने मिश्रा को बलात्कार का दोषी मानते हुए दंडित किया है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी। अभियोजन की ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक नरेंद्र तिवारी ने की।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???