Patrika Hindi News

एक मिडिल स्कूल के पास है इतनी जमीन जानकर आप भी हैरत में पड़ जाएंगे

Updated: IST amazing school
शहर के मिडिल उर्दु गांधी को नहीं है भवन, एक ही कमरे में लग रही तीन कक्षाएं

श्योपुर. कहने को भले ही शासन-प्रशासन शैक्षणिक व्यवस्था का आधारभूत ढांचा सुदृढ़ करने को लाखों रुपए खर्च कर ही हो, लेकिन आज भी कई स्कूलों को स्वयं का भवन नसीब नहीं है। कुछ यही स्थिति शहर के शासकीय माध्यमिक उर्दु गांधी विद्यालय की है, जिसे 15 साल बाद भी भवन नसीब नहीं हो सका है। यही वजह है कि मिडिल स्कूल की तीनों कक्षाएं एक ही कमरे में लग रही हैं।

शहर के किला रोड पर शासकीय मिडिल उर्दु गांधी विद्यालय संचालित है। चूंकि यहां पूर्व में शासकीय प्राथमिक उर्दु गांधी विद्यालय संचालित था, जिसे वर्ष 2002 में क्रमोन्नत कर मिडिल उर्दु गांधी भी बना दिया गया। हालांकि पूर्व में प्राथमिक उर्दु गांधी का भवन था, लेकिन वो खंडहर हो गया, लिहाजा इस स्कूल को वार्ड15 में बने भवन में शिफ्ट कर दिया गया, लेकिन मिडिल उर्दु गाधी अभी भी यहीं संचालित है। चूंकि स्कूल के पास भवन नहीं है, लिहाजा यहां संचालित शासकीय कन्या प्राथमिक विद्यालय भवन के तीन कमरों में से एक कमरा दिया हुआ है। जिसके चलते मिडिल उर्दु गांधी की कक्षा 6 ,7 व 8 एक ही कमरे में लगती हैं।

54 बच्चों पर जमे हैं तीन शिक्षक
विद्यालय में वर्तमान में 54 छात्र-छात्राएं अध्यनरत हैं, जिन पर तीन शिक्षक पदस्थ हैं, ऐसे में बच्चों के मान से शिक्षक भी ज्यादा पदस्थ हैं।

हमारे पास भवन नहीं है, प्राथमिक कन्या स्कूल का ये एक कमरा दिया हुआ है, जिसमें कक्षाएं लगती हैं। साथ ही एमडीएम बनाने सामान भी यहीं रखना पड़ता है।
अब्दुल शकूर, हेडमास्टर, मिडिल उर्दु गांधी स्कूल श्योपुर

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???