Patrika Hindi News

पेड़ की छांव में शिक्षा का पाठ, अभावों में कर रहे पढ़ाई

Updated: IST under tree
स्कूल तो खोला, मगर भवन तीन साल बाद भी नहीं बनाया, रूपनगर गांव के शासकीय प्राथमिक स्कूल का मामला

सोंईकलां/श्योपुर । श्योपुर विकासखंड के ग्राम रूपनगर में भले ही शिक्षा विभाग द्वारा तीन साल पहले शासकीय प्राथमिक स्कूल खोल दिया हो, लेकिन यहां पढऩे वाले बच्चों के लिए स्कूल भवन अभी तक नहीं बनाया गया है। ऐसे में यह स्कूल कभी पेड़ के नीचे तो कभी आंगनबाड़ी भवन में लग रहा है। जिसे देखते हुए अभिभावक भी स्कूल भवन बनाए जाने की मांग उठा रहे है। बावजूद इसके जिम्मेदार स्कूल भवन बनाने की दिशा में कोई ध्यान नहीं दे रहे है।

जनपद पंचायत श्योपुर की ग्राम पंचायत ज्वालापुर के अंतर्गत आने वाले ग्राम रुपनगर में ग्रामीणों की मांग पर शिक्षा विभाग द्वारा युक्तिकरण की प्रक्रिया के तहत 22 जून 2013 को शासकीय प्राथमिक स्कूल खोला गया था। जिससे गांव के बच्चों को पांचवी तक पढऩा तो सुविधाजनक हो गया। मगर इन स्कूली बच्चों के बैठने के लिए शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल भवन अभी तक भी नहीं बनाया गया है। जिसकारण इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को परेशानी हो रही है। क्योंकि कभी यह स्कूल पेड़ के नीचे तो कभी आंगनबाड़ी भवन में लग रहा है। वर्तमान में यह स्कूल आंगनबाड़ी भवन में लग रहा है। जहां स्कूली बच्चों को बैठने के दौरान खासी असुविधाएं झेलनी पड़ रही है।

28 बच्चे पढ़ रहे रूपनगर स्कूल में

भवन विहिन शासकीय प्राथमिक स्कूल रूपनगर में 28 बच्चे पढ़ रहे हैं। जिनको पढ़ाने के लिए स्कूल में दो शिक्षकों की पदस्थी है। भवन न होने के कारण स्कूली बच्चों सहित स्कूल स्टॉफ को भी स्कूल का रिकार्ड आदि रखने में दिक्कते उठानी पड़ रही है।

उपयंत्री बोले रूपनगर स्कूल के लिए स्वीकृत नहीं होगा भवन

जिला शिक्षा केन्द्र के उपयंत्री हरिशंकर जाटव का कहना हैकि रूपनगर में शासकीय प्राथमिक स्कूल युक्तिकरण के तहत खोला गया है। इसलिए वहां शासन की ओर से भवन स्वीकृत नही होगा। क्योंकि शासन के द्वारा युक्तिकरण के तहत खोले जाने वाले प्राथमिक स्कूलों के लिए भवन की स्वीकृत नहीं की जाती है।

रूपनगर गांव के प्राथमिक स्कूल के लिए भवन नहीं है तो इस मामले को शासन-प्रशासन के समक्ष रखते हुए भवन स्वीकृति के लिए प्रयास करेंगे।

दुर्गालाल विजय विधायक,श्योपुर

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???