Patrika Hindi News

जिंदा होने का सबूत देने कलेक्ट्रेट पहुंचा 82 साल का वृद्ध

Updated: IST shivpuri
ग्राम पंचायत बघारी के सचिव ने अपनी पंचायत में रहने वाले एक वृद्ध को दस्तावेजों में मृत दर्शा दिया

शिवपुरी. खनियांधाना जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत बघारी के सचिव ने अपनी पंचायत में रहने वाले एक वृद्ध को दस्तावेजों में मृत दर्शा दिया है। मंगलवार को इस वृद्ध ने कलेक्टर के पास पहुंच कर खुद के जिंदा होने का सबूत देकर वृद्धावस्था पेंशन और राशन की मांग की। इसके अलावा वृद्ध ने सचिव के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करने की भी मांग की।

जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत बघारी में पंचायत सचिव जयपाल सिंह सिकरवार ने गांव के भगुंत सिंह पुत्र माधव सिंह लोधी उम्र ८२ साल का फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर २० अगस्त २०१५ को मृत घोषित कर दिया। इस कारण वृद्ध को मिलने वाली सभी शासकीय सुविधाएं बंद कर दी गईं। जब भगुंत ने सचिव से वृद्धावस्था पेंशन और राशन की पर्ची मांगी तो पता चला कि वह तो एक साल पहले ही मर चुका है। सचिव ने वृद्ध को पेंशन और राशन देने से इंकार कर दिया जिस पर मंगलवार को वृद्ध कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव के पहुंचा और खुद को सचिव द्वारा जीते जी मार डालने का सबूत दिखाते हुए, खुद के जीवित होने के कई सबूत उन्हें दिखाए। कलेक्टर ने मामले की जांच करा कर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???