Patrika Hindi News

> > > > women facing problem in line for Atm

UP Election 2017

पैसे के लिए लाइन में लगी महिलाएं झेल रहीं यह परेशानी

Updated: IST WOMEN IN LINE
शहर से सटे पीठनी गांव की रूखसाना ने बताया कि वह कल लाइन में लगी थीऔर...

सिद्धार्थनगर. नोटबंदी के बाद कैशलेस होते बैंकों के साथ पैसों के लिए लोगों की जरूरत भी बढ़ती जा रही है। जिसके चलते हर कोई बैंक की लाइन में खड़ा नजर आ रहा है। बैंकों की लाइन में पुरूषों के साथ अब महिलाओं की भी लाइन लम्बी होती जा रही है। घरों का काम निपटाने के बाद महिलाएं भी पैसों के लिए बैंकों का रूख कर रही है। जिससे बैंकों व एटीएम पर महिलाओं की भी लाइन लम्बी होती जा रही है।

कैशलेस बैंकों में नोट पहुंचाने के लिए अभी तक कोई व्यवस्था नहीं किए जाने से लोगों की समस्या बढ़ती जा रही है। लम्बी लाइन में घण्टों गुजारने के बाद भी लोगों को जरूरत भर का पैसा नहीं मिल पा रहा है। लम्बी लाइन के धक्के खाने वाले पुरूषों द्वारा परेशानी बताने के बाद अब महिलाएं भी पैसों के लिए लाइन से जद्दोजहद कर रही है।

आलम यह है कि बैंकों के बाहर महिलाओं की अलग से लाइन लग रही है। लेकिन यह लाइन समय के साथ बढ़ती जा रही है। अभी तक महिलाओं की लाइन बैंकों के अन्दर ही दिख रही थी लेकिन अब यह लाइन बैंकों के बाहर तक पहुंच गई है। एटीएम पर भी महिलाओं की अलग से लम्बी लाइन लग रही है। एचडीएफसी का एटीएम व हो या फिर एसबीआई का महिलाओं की लम्बी लाइन पैसा निकासी के लिए लग रही है।

जबकि एटीएम से लोगों को महज दो हजार रूपए ही मिल रहे है। ऐसे में पुरूषों के साथ बैंकों की लाइन में महिलाएं भी धक्के खा रही हैं। शहर से सटे पीठनी गांव की रूखसाना ने बताया कि दो घर का काम निपटाने के बाद कल लाइन में लगी थी लेकिन महज दो हजार रूपया ही दिया गया लेकिन और पैसों की जरूरत चलते लाइन में लगना पड़ा। बर्डपुर की सुनीता ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के बैंकोंं में पैसा ही नहीं है जिसके चलते शहर के बैंक से निकालने के लिए लम्बी लाइन से जद्दोजद करना पड़ा। यह समस्या कब दूर होगी कोई बता भी नहीं रहा है। इसी तरह से केशमती, दुर्गावती भी सुबह ही घर का काम निपटा कर बैंक में लाइन लगाने के लिए शहर पहुंच गई। लेकिन उनक नम्बर आने पर उन्हें पैसा मिलेगा या नहीं इसकी भी कोई गारन्टी नहीं है।

ग्रामीण क्षेत्र के बैंकों में भी जुट रहीं महिलाएं
ग्रामीण क्षेत्र के बैंकों की स्थिति और भी खराब है। जहां पर महिलाएं पैसों के लिए सुबह ही लाइन में लग जा रही है। लेकिन जब बैंक खुल रहा है तो उन्हें यह बताया जा रहा है कि बैंक में पैसा हीं नहीं है। जिससे लोगों का सब्र टूट जा रहा है। कई जगहों पर तो नराजगी व्यक्त करते हुए महिलाए बैंक प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने के साथ कर्मचारियों से झड़प भी कर चुकीं है। बताया जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र के बैंकों में नया नोट पहुंचने में अभी समय लगेगा। अभी आने वाले दिनों में भी गांव के बैंकों में पैसा नहीं पहुंचने से पैसों के लिए हाहाकार की स्थिति रहेगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???