Patrika Hindi News

> > > > Two killed in road accident due to illegal liquor business

अवैध शराब के कारोबार ने लील ली दो जिंदगियां

Updated: IST Two killed in road accident due to illegal liquor
गांवों मेें अवैध शराब का कारोबार इतनी तेजी से फैल रहा है कि जिससे युवाओं की जिन्दगी की तो खराब हो रही है

जींद। गांवों मेें अवैध शराब का कारोबार इतनी तेजी से फैल रहा है कि जिससे युवाओं की जिन्दगी की तो खराब हो रही है, साथ में शराब का अवैध धंधा करने वाले को अपनी जिन्दगी से हाथ धोना पड़ा। ऐसा ही मामला हिसार-चण्डीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर घटित हुआ। जिसमें दो युवकों की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। पुलिस ने मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया।

शहर थाना से मिली जानकारी के अनुसार गांव ढाकल वासी कुलदीप ने पुलिस में दिये ब्यान में बताया कि गांव का ही 27-28 वर्षीय संदीप उर्फ भालू टैक्सी पर गाड़ी चलाने का काम करता है और बीती शाम उसका चाचा का लड़का 32-33 वर्षीय सतीश उर्फ काला, संदीप उर्फ भालू की रिट्ज कार में सवार होकर घर से किराये पर गाड़ी ले जाने की बात कहकर निकला था। लेकिन देर रात तक वह घर वापिस नहीं लौटा था।

घने कोहरे के कारण देर रात्रि लगभग 12 बजे उसको सूचना मिली कि हिसार-चण्डीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर रेलवे फाटक पर खड़े ट्रक में पीछे से कार की टक्कर लगने से दो युवकों की मौत हो गई है। वह सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचा तो उसने शवों की शिनाख्त की। इस दौरान कार में देशी शराब की पेटियां भरी हुई थी। जिसको देखकर अंदाजा लगाया जा सकता था कि शराब की अवैध तस्करी की जा रही थी। जिसमें उनकी लापरवाही से मौत हुई है। पुलिस ने कुलदीप के ब्यान पर मामला में कारवाई कर शवों का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया।

अवैध शराब का धंधा बना मौत का कारण

संदीप उर्फ भालू पिछले काफी समय से अवैध शराब का धंधा करता आ रहा है। जिसमें उसको कम लागत में ज्यादा मुनाफा हो रहा था। वह शराब ठेकेदारों द्वारा अवैध शराब की सप्लाई करने के मामले में पकड़ा भी जा चुका था। लेकिन उसके बाद भी उसका अवैध तस्करी का धंधा जोरों पर चल रहा था। यही कारण था कि वह दिन ढलते ही सस्ती दरों पर शराब की सप्लाई लाने के लिए कैथल जिले में निकल जाता था और वहां से कार में शराब की पेटी लोड कर नरवाना के गांवों में सप्लाई करने के लिए जाता था। बुुधवार को भी वह कैथल से शराब की पेटी लोड कर नरवाना के गांवों में सप्लाई करने के लिए जा रहा था, लेकिन इसी बीच रेलवे फाटक के पास खड़े ट्रक में कार की टक्कर हो गई और संदीप उर्फ भालू व सतीश उर्फ काला की मौके पर मौत हो गई।

घर का इकलौता चिराग था संदीप

गांव ढाकल वासी संदीप उर्फ भालू दो बहनों का इकलौता भाई व घर का अकेला चिराग था। उसके एक साल का लड़का है। जब परिजनों को उसकी मौत की सूचना मिली तो उसका रो-रोकर बुरा हाल था। सतीश उर्फ काला घर में कमाने वाला अकेला था। वह अपने पीछे दो लड़कियां छोड़ गया है, जिनमें एक की उम्र 8 साल और दूसरी की 6 महीने ही है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???