Patrika Hindi News
UP Election 2017

बीजेपी के सम्मेलन में नहीं जुटी लोगों की भीड़, खाली रही कुर्सियां

Updated: IST bjp
सम्मेलन में सौ लोग भी नहीं जुटे

सोनभद्र. भाजपा यूूपी चुनाव जीतने की रणनीति के लिए हर तरह का प्रयोग कर रही है। तमाम बैठकें और कार्यक्रमों के जरिये प्रदेश में अपने जनाधार को बढाने की कोशिश कर रही है पर बीजेपी के उम्मीदों को बल मिलता नहीं दिख रहा।

जी हां इसका ताजा उदाहरण यूपी के सोनभद्र जनपद में देखने को मिला जहां बीजेपी के माटी तिलक कार्यक्रम में कम भीड़ से ही भाजपा के माथे पर पसीना आ गया। पिछले तकरीबन छह महीने से भाजपा तमाम यात्राओं के जरिये यूपी में जनाधार बढ़ाने की कोशिश की पर ये कोशिश सफल क्यूं नहीं हुई ये भाजपा के लिए चिंता की बात है। भाजपा प्रदेश में कभी पिछड़ा वर्ग सम्मेलन कभी परिवर्तन यात्रा तो कभी महिला सम्मेलनों के जरिये खुद को प्रदेश मे 1 नंबर पार्टी बनाना चाह रही है पर इस तरह के आयोजनों में भाजपा का फ्लाप शो आखिर किस तरह इशारा कर रहा है इसे सोचने की जरूरत है।

सफल हो रही केन्द्र सरकार की योजना
आरटीएस क्लब मैदान राबर्ट्सगंज में माटी तिलक प्रतिज्ञा कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमे जनपद के भिन्न भिन्न स्थानो से किसानो द्वारा लायी गयी माटी से मुख्य अतिथि क्षेत्रीय उपाध्यक्ष नागेन्द्र रघुवंशी व जिलाध्यक्ष अशोक मिश्र द्वारा किसानो को माटी तिलक लगाकर अभिनंनद किया गया और उत्तर प्रदेश में भाजपा कि सरकार बनाकर किसानो के उत्थान व विकसित प्रदेश के निमार्ण की प्रतिज्ञा ली गयी। इसके तत्पश्चात किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष की अगुआई में किसानो का तिलक लगाकर व माल्यापर्ण कर स्वागत किया। किसानो को सम्बोधित करते हुयें मुख्य अतिथि नागेन्द्र रघुवंशी ने कहा कि आज देश के प्रघान मंत्री नरेन्द्र मोदी देश के युवाआें, किसान व्यवसायियों सभी वर्गो व गरीबो के उत्थान के लियें काम करते हुए काला धन व भ्रष्टाचारियों पर प्रहार कर रहे है, जिससे सपा, बसपा, व काग्रेस के भ्रष्ट लोग तिलमिला गये है, वो मोदी जी को रोकना चाहतें है। किन्तु आज देश के लोगो का अपार जनसमर्थन की बदौलत मोदी जी की योजनायें सफल हो रही हैं।

किसानों के मुद्दों को प्राथमिकता, फिर भी नहीं चला जादू
भाजपा ने किसानों को अपने साथ जोड़ने के लिए कहा है कि भाजपा के घोषणा पत्र में किसानों के मुद्दे सबसे पहले होगें औऱ किसानों की समस्या को निपटाने के लिए भाजपा किसी भी तरह से पीठे नहीं हटेगी उसके बाद भी भाजपा के इस कार्यक्रम से किसानों की ये बता रही कि भाजपा को अपने प्लान में जमीनी हकीकतों को जानने की कोशिश करनी चाहिुये।

क्या नोटबंदी के बाद किसान हो रहे हैं भाजपा से दूर
जानकारों की माने तो सोनभद्र में भाजपा के इस कार्यक्रम में इतनी कम भीड़ भाजपा के लिए अच्छे संकेत नहीं दे रहे हैं। पत्रिका संवाददाता ने जब इस मसले पर कुछ लोगों की राय जाननी चाही तो लोगों ने इसे नोटबंदी के बाद भाजपा से किसानों की नाराजगी बताया। लोगों की मानें तो नोटबंदी ने किसानों की कमर तोड़ दी है। किसानों ने अपने फसलों की समया से बुआई नहीं की। जो पैदावार हुई उसका लाभ भी किसानों को नहीं मिल पा रहा है। सब्जियों का का भाव लगातार गिरता जा रहा । जिससे किसानों की लागत तक नहीं निकल पा रही है। ऐस में भाजपा से किसान नाखुश हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???