Patrika Hindi News

मां ने कहा था बेटे को असफल होते नहीं देख सकती तो बेटे ने लिख दी सफलता अमिट इबादत

Updated: IST succes story of a indian chef
कहा जाता है कि इबादत करना हर इंसान का कर्तव्य भी होता है और कर्म भी। लेकिन कुछ लोग दुनिया में ऐसे होते हैं जो अपनी मेहनत से ऐसे कारनामे कर दिखाते हैं कि वो अपनी अलग ही इबादत लिख देते हैं..

कहा जाता है कि इबादत करना हर इंसान का कर्तव्य भी होता है और कर्म भी। लेकिन कुछ लोग दुनिया में ऐसे होते हैं जो अपनी मेहनत से ऐसे कारनामे कर दिखाते हैं कि वो अपनी अलग ही इबादत लिख देते हैं, जिनका काम ही उनकी पूजा(इबादत) बन जाता है। वो इबादत अमिट होती है, जो कभी नहीं मिटती, बस उसमें अध्याय जुड़ते जाते हैं।

शेफ विकास खन्ना, आज देश और दुनिया का एक ऐसा जाना पहचाना नाम है जिस नाम के पीछे एक अनसुनी कहानी और मेहनत छुपी हुई है। आज हम आपको देश के लिए विदेशों तक में नाम कमाने वाले विकास खन्ना के बारे में बताएंगे, जो आज उस मुकाम पर हैं जहाँ पहुंचना अमूमन आसान नहीं होता।

Image result for masterchef india 2015 judges

अमृतसर के रहने वाले विकास खन्ना ने अपनी जिंदगी में कई उतार चढ़ाव देखे हैं। उनका बचपन यहां की गलियों में बीता है। विकास की दादी अमृसर की एक छोटी सी गली में ठेले पर पराठे की दुकान लगाती थी, जहां वह अपनी मां के साथ पराठे बेचा करते थे।

आज विकास न्यूयॉर्क में ‘जूनून’ नाम के एक रेस्टोरेंट के मालिक हैं। इतना ही नहीं उनके इस रेस्टोरेंट के लिए उन्हें मिशलिन स्टार अवॉर्ड से नवाजा भी गया है।

मां ने कहा बेटे को असफल होते नहीं देख सकती-

Image result for chef vikas khanna with his mother

एक इंटरव्यू में विकास ने कहा था कि एक बार जब वो एक पार्टी में अपने काम के सिलसिले में थे तब अचानक लाइट चली गई. उस दौरान उनकी माँ भी उनके साथ थी, लेकिन जब वो छत गए तो उन्होंने अपनी माँ को वहां खड़ा पाया और अचानक से लाइट भी आ गई। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उनकी मां तेज बारिश में जनरेटर का स्विच पकड़ कर खड़ी थी। वजह पूछे जाने पर उनकी मां ने कहा था: “मैं अपने बेटे को असफल होते नहीं देख सकती।”

घर के पीछे बैंक्विट हाल खोल कर की शुरुआत-

Image result for CHEF VIKAS

सबसे पहले विकास ने अपने घर के पीछे ही एक छोटा सा बैंक्विट हॉल खोला, लेकिन इस काम में उन्हें कुछ ख़ास सफलता नहीं मिली। उन्होंने कई और बिज़नेस शुरू किये, पर उसमें भी वह कामयाब नहीं रहे, लेकिन विकास के परिवार ने हमेशा उनका साथ दिया।

पीएम मोदी और ओबामा को दे चुके हैं अपनी लिखी किताब-

Image result for CHEF VIKAS उत्सवविकास ने 2015 में “उत्सव” नाम की अपनी एक किताब लिखी, जिसमें भारत के त्यौहार के दौरान बनने वाले व्यंजनों के बारे में बताया है। विकास को इस किताब को लिखने में 12 साल लग गए। इस किताब की एक कॉपी उन्होंने 2015 में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा को तोहफे में दी। इसकी एक कॉपी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और हिलेरी क्लिंटन को भी भेंट की।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???