बच्चों को खाने से ज्यादा अश्लील फिल्में पंसद

Street children in Delhi survive on porn, videos; not food

print 
Street children in Delhi survive on porn, videos; not food
6/26/2013 6:10:00 PM

नई दिल्ली। एक अंधेरे गंदे कमरे में केवल एक ही चीज दिखाई देती है। टेलीविजन सेट से निकलती ब्लू रंग की रोशनी और उसके सामने किशोर वय और उसस भी कम उम्र के बच्चे पर्दे पर आंख जमाए हुए। कमरे से "ओह" और "आह" की आवाजें आ रही हैं।

पहली नजर में लगता है कि वे कोई हिंदी फिल्म देख रहे हैं, लेकिन करीब से देखने पर पता चलता है कि असल में वे एक अश्लील फिल्म को देखने में मशगूल हैं। ये लड़के भगोड़े या घुमक्कड़ हैं जिन्हें दिल्ली के कई चौराहों पर भीख मांगते हैं या कचरा बीनते देखा जा सकता है।

इन बच्चों के बीच काम करने वाले एनजीओ के मुताबिक, ऎसे बच्चों में से अधिकांश या तो अश्लील फिल्मों से या फिर वीडियो गेम्स से सम्मोहित हैं और अपनी अधिकांश कमाई इन्हीं चीजों पर खर्च कर डालते हैं। इन चीजों का आकर्षण ऎसा है कि वे खाना भी भूल जाते हैं।

विशाल कुशवाहा नाम के एक कचरा बीनने वाले बच्चे ने बताया कि मैं वीडियो गेम्स खेलने के लिए घंटों बैठ सकता हूं या फिल्में देखता हूं। मैं इस पर 50 रूपये या इससे ज्यादा खर्च करता हूं। इसलिए मैंने बाहर खाना छोड़ दिया है और चाय और बीड़ी ही लेता हूं। 17 वर्षीय कचरा बीनने वाला यह किशोर रोजना 150 से 200 रूपये कमाता है।

कुशवाहा ने बताया कि हम एक चाय दुकान में सिनेमा देखते हैं। वहां टेलीविजन सेट और डीवीडी प्लेयर है। कुशवाहा के साथ एक दर्जन किशोर दक्षिणी दिल्ली के सराय काले खान में नियमित रूप से अश्लील फिल्म देखते हैं। अपनी इस आदत के लिए किसी तरह की झिझक का प्रदर्शन किए बगैर कुशवाहा ने बताया कि वह हर रात कम से कम दो से तीन अश्लील फिल्में देखता है।

लेकिन यह सिर्फ एक बच्चे की कहानी नहीं है। 13 वर्ष के अंकित का भी यही हाल है। वयस्क फिल्मों की दुनिया से उसका परिचय तब हुआ जब वह 10 वर्ष का था। उससे उम्र में दो वर्ष ज्यादा एक दोस्त ने पहली बार ऎसी फिल्म दिखाई थी।

अंकित ने बताया कि मेरे दोस्त ने मुझे इसकी जानकारी दी। अब हर सप्ताह मैं अश्लील क्लिप देखता हूं। अपने मोबाइल पर क्लिप डाउनलोड करने के लिए हम करीब 80 रूपये खर्च करते हैं। हमारे लिए खाना ज्यादा महत्व नहीं रखता।


    Comments
    vikas says:
    15 Dec 13 at 07:23 AM
    गवर्मेंट को अस्लील मूवी पर रोक लगणी चाहिए जिससे इंडिया का भविस्य सुधारेगा हमारी गवर्मेंट अस्लील मूवी पर कोई कारवाही नहीं करती हमारी सर्कार सुदरेगी तब जके भारत का भविस्य में सुधर आयेगा थैंक्स
    mandeep kumar says:
    26 Nov 13 at 06:48 PM
    aaj smaj me jo gndgi fell rhi h in sab ki jimedar har eak saby vykti ki h in sab ka sbse bada karn aaj smaj me kunvaro ki bdti sankhya h kyoki ladkiyo ko unki shi umr par unki sadi unke mabap nhi karte h jo umr k unusar btkti jati h or unka bdkau phnava jo har ek nojwan uvk ko mjboor kar deta h glt rasta lene par to sbhi se apil h kirpya is phnave or kuwarepan ki smsyao par gor kiya jaye
    ?????????? ????? ????? says:
    26 Sep 13 at 09:42 PM
    क्या कर सकते हैं... ये देश ही ?से लोगों का हो गया है, भारतीय सभ्यता और संस्कृति का लोहा जो पूरे विश्व में माना जाता था उसको बर्बाद कर दिया है। इसके लिए हम सब बराबर के जिम्मेदार हैं।
    variya ajay says:
    23 Sep 13 at 10:50 AM
    इस में मा? बाप को जयादा ख्याल रखना चाहिए , बच्चो को उसकी उम्मर के हिसाब से फैसिलिटी देनी चाहिए नहीं की अपनी की अपनी कैपेसिटी के हिसाब से !!! और अगर दिया बी है तो उसकी निगरानी पॉजिटिव राकह्नी चाहिए ,,ताकि मा? बाप अपने बच्चो को अच्छा इन्सान बना सके.
    Mrs. Susheela Arun says:
    22 Sep 13 at 08:24 AM
    वे आल अरे रेस्पोंसिबल फॉर थिस डाउन फल ऑफ? सोसाइटी बिकॉज? एदुकातेद ,कल्चर्ड& रेस्पोंसिबल पीपल दोनोत रईसे थेइरस्ट्रोंग वोइचेअगैन्स्त ब्लू & पोर्न फिल्म्स.वेदों`टी रियेक्ट अपॉन तू मच एक्स्पोसौरे & सेक्स सीन्स इवन इन थ हिंदी फिल्म्स, सेरिअल्स & इन अद्वेर्तिसेमेंट्स. सॉरी तो से ठाट इवन रेपुटेड ,एस्ताब्लिशेद न्यूज? पेपर्स &मग्ज?िनेस पब्लिश वैरी शमेफुल & प्रोहिबिताब्ले एड्स रिलेटेड तो सेक्स/सेक्स पावर्स. ठेरेफोरे फर्स्ट ऑफ? आल थे मीडिया & सोकाल्लेद ईण्टे?्?ेछ्टूआ?्ष शौल्ड रिव्यु ठेम्सेल्वेस & थें शो फर्म देतेर्मिनतिओन तो रन अ काम्पैग्न अगेंस्ट आल सुच मॉल प्रैक्टिसेज.--द्वारा -श्री मति . सुशीला अरुण , प्राध्यापिका (रसायन SHASHTRA) केंद्रीय विद्यालय .Kramank ? (आर्मी) JODHPUR
    rakesh says:
    21 Sep 13 at 08:28 AM
    आगे चल कर ये ही बच्चे rape जैसे अपराधो को जन्म देते है
    raj says:
    03 Sep 13 at 04:05 PM
    @
    Ashok Bhutra says:
    30 Aug 13 at 11:36 AM
    बचो का कोई दोष नै है . लेकिन मा? बाप अपनी जवाबदारी को समजना होगा .हमारी सरकार को भी अपनी निगरानी रखनिहोगी .सोसाइटी के लोगो को जागरूक होना होगा -सबसे ज्यादा सरकार की आंध्देखिहाई
    ashish sharma says:
    17 Aug 13 at 02:41 PM
    बच्चो के माता पीता का काम ह कि वह क्या कर रहा ह क्या नही उसकी संगत केसी ह गलत लडको से तो उसका जुडाव नही ह वह क्या करता ह और जो आदमी बच्चो को गलत कार्य दिखता ह करवाता ह और उनके साथ कुछ गलत कार्य करता ह तो उसके साथ क?ी ?ानूनी कार्यवाही करनी चाहिए क्योकि बच्चे देस का भविष्ये ह और यदि ये बिग? जायेंगे तो देश का क्या होगा समाज का क्या होगा लडकियों के प्रति लोगो कि एक गलत मानसिकता बन जाएगी जो मुझे तो कतई पसंद नहीं मुझे तो देश को वह देखना ह जंहा का हर एक बच्चा शिक्षित हो व अच्छे पद पर हो में बच्चो को सम्जाऊंगा क्या आप मेरे साथ हो बताओ हमे भारत कि पहचान बनानी ह देश को उन्नत बनाना ह
    narendra meena says:
    03 Aug 13 at 09:23 AM
    aaj kal ase he child india ko dovplament nhe kar rhe h but rap ka man karan girls he h
    Sanyay says:
    26 Jun 13 at 06:33 PM
    आगे चल कर ये ही बच्चे rape जैसे अपराधो को जन्म देते है .....
    Sanyay says:
    26 Jun 13 at 06:33 PM
    आगे चल कर ये ही बच्चे rape जैसे अपराधो को जन्म देते है .....
    Aman says:
    26 Jun 13 at 06:30 PM
    सही है, आजकल के बच्चे अपने ?ुद के स्वास्थ्य का ध्यान न रख के अपना स्वास्थ्य इन अश्लील पिक्स को देखकर ?राब कर रहे है , बच्चो आजकल गेम की जगह ?से पिक्स को तवज्जो कुछ अधिक दे रहे है खेलने खाने की उम्र में अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवा? कर रहे है... जो गलत है
    rajveer singh says:
    26 Jun 13 at 06:27 PM
    Now a day children are getting more than they can handle. this is killing the innocence on future generations.
    Write to the Editor
    Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)
    Terms & Conditions
    Comments are moderated. Comments that include profanity or personal attacks or other inappropriate comments or material will be removed from the site. Additionally, entries that are unsigned or contain "signatures" by someone other than the actual author will be removed. Finally, we will take steps to block users who violate any of our posting standards, terms of use or privacy policies or any other policies governing this site.
    Name:      
    Location:    
    E-mail:      
       
           
        
     
     
    Top