Patrika Hindi News

चौंक जाएंगे, एक साल बाद बाहर निकाली लाश, मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने की थी हत्या

Updated: IST sukma 1 saal bad lash
नक्सलियोंं के डर से परिजनों ने पुलिस को नहीं दी थी खबर नही दी थी। मौके पर डाक्टर व पुलिस की टीम ने पीएम के लिए निकाला शव।

सुकमा. विगत वर्ष 2016 में माओवादियों ने ग्रामीण की हत्या कर जमीन में गाड़ दिया था जिसकी खबर माओवादियों के डर से परिजनों ने पुलिस को खबर नही दी थी। बाद में मौके पर डाक्टरो और पुलिस अफसरों की टीम गांव वाली खबर पर गांव पहुंचकर ग्रामीणों के सामने शव निकालकर पीएम किया ।

शव को कब्र से निकालकर

सुकमा पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त बल द्वारा पोल्मपल्ली थाने के अंतर्गत आने वाले अति नक्सल प्रभावित ग्राम कोर्रापाड़ पहुँचकर नक्सलियो द्वारा पिछले साल 2016 में मारे गए ग्रामीण किच्चे देवा के शव को कब्र से निकालकर शव को जमीन से खोदकर पोस्टमॉर्टम की कार्यवाही की। दोरनापाल एसडीओपी विवेक शुक्ला के नेतृत्व में टीम गई। जिसमे कार्यपालिक दंडाधिकारी सिरमौर तथा डॉ कपिल कश्यप की टीम साथ थीए ने ग्रामीणों के बताए स्थान पर नियमानुसार

शव के लिए जमीन खोदी गई

पिछले साल नक्सलियों द्वारा अपना आंतक फैलाने के लिए गांव के ही एक ग्रामीण किच्चे देवा की हत्या पुलिस मुखबिर का झूठा आरोप लगाकर कर दी थी। उक्त मामले में पोलमपल्ली थाने में नक्सलियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया गया था।

न्याय प्रदान करने की दिशा में

गौरतलब है कि ग्राम कोर्रापाड़ नक्सलगढ़ माना जाता है। वहां पहुंचकर शव निकालकर शव परीक्षण करवाना पीडि़त परिवार को न्याय प्रदान करने की दिशा में एक बड़ा कदम है। उक्त कार्यवाही में जिला पुलिस से एसडीओपी दोरनापाल विवेक शुक्लाए दोरनापाल थाना प्रभारी अजय सोनकर पोल्मपल्ली थाना प्रभारी विनोद साहू सीआरपीएफ के व्यवहार सिंह शामिल थे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???