Patrika Hindi News

व्यापारियों ने दिखाए तीखे तेवर

Updated: IST surat
करीब दो घंटे तक चली टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति की बैठक का अधिकांश समय सोमवार शाम हंगामे और

सूरत।करीब दो घंटे तक चली टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति की बैठक का अधिकांश समय सोमवार शाम हंगामे और शोरगुल के बीच ही बीत गया। हालांकि कपड़ा व्यापारियों के सरकारी कानून के प्रति आक्रोश को देखते हुए समिति को भी उनके सुर में अपना सुर मिलाते हुए 24 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल के कड़े निर्णय की ओर बढऩा पड़ा। तीन जून से सूरत के कपड़ा बाजार में कपड़ा उद्योग पर जीएसटी लागू किए जाने के फैसले का विरोध लगातार मुखर होता जा रहा है।

इस बीच टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति का गठन, गुडलक मार्केट प्रांगण में हजारों व्यापारियों की आमसभा, शत-प्रतिशत कपड़ा बाजार बंद और इससे पहले गांधीनगर में जीएसटी काउंसिल सदस्यों से बैठक, केंद्रीय वित्तमंत्री के साथ बातचीत आदि प्रक्रिया विरोध स्वरूप अपनाई जा चुकी है।

जीएसटी काउंसिल की रविवार की बैठक पर सबकी नजर टिकी हुई थी, लेकिन परिषद की बैठक में कपड़ा उद्योग पर जीएसटी के संदर्भ में चर्चा का अभाव रहा। इससे नाराज संघर्ष समिति की आवश्यक बैठक सोमवार शाम कपड़ा बाजार की टैक्सप्लाजा होटल में रखी गई। कपड़ा उद्योग पर जीएसटी लागू किए जाने के काउंसिल के निर्णय के खिलाफ बैठक में मौजूद कपड़ा व्यापारियों का आक्रोश झलक रहा था। बैठक की शुरुआत से मौजूद व्यापारी जीएसटी के विरोध में केवल और केवल अनिश्चितकालीन कपड़ा बाजार बंद रखे जाने के प्रति जोर देते रहे। प्रत्येक टैक्सटाइल मार्केट के अध्यक्ष, सचिव का रुझान भी बैठक के दौरान समिति ने जाना और उसके बाद 24 जून से कपड़ा बाजार अनिश्चितकाल के लिए बंद रखे जाने का निर्णय किया गया।

बंद पर रहेगी छुट्टी की छाया

टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति समेत देशभर के अन्य संगठनों की 23 जून शाम तक सरकार ने मांग नहीं मानी तो 24 जून से सूरत समेत देशव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल होगी। इसके शुरुआती तीन दिन छुट्टियों की छाया हड़ताल पर रहेगी। इसमें 24 जून शनिवार को बैंक बंद, 25 को रविवार व 26 जून सोमवार को ईद का सार्वजनिक अवकाश रहेगा।

सभी की थी एक राय

बैठक में मिलेनियम मार्केट, न्यू टैक्सटाइल मार्केट, हरिओम मार्केट, जेजे मार्केट, राधाकृष्णा मार्केट, जयश्रीराम मार्केट, सिल्कसिटी मार्केट, तिरुपति मार्केट, शंकर मार्केट, काशी मार्केट, जगदम्बा मार्केट, बालाजी मार्केट, हरिकृपा मार्केट समेत अन्य टैक्सटाइल मार्केट के पदाधिकारियों व प्रतिनिधि व्यापारियों ने जीएसटी के विरोध में कपड़ा बाजार बंद रखे जाने की एक राय व्यक्त की।

तेवर ऐसे, चढ़ गई बांहे

समिति के संयोजक ताराचंद कासट के जीएसटी के सरलीकरण की बात बोलने पर मौजूद कुछ व्यापारी आक्रोशित हो गए और बाद में बात बढ़ते-बढ़ते तीखे तेवर तक पहुंच गई। यहां तक कि गुस्सा हुए व्यापारियों ने बांहे तक चढ़ा ली। वहीं, कई व्यापारी अनुशासनहीनता की इस पराकाष्ठा से मन ही मन दुखी भी नजर आए और आंदोलन के भविष्य के प्रति चिंतित दिखाई दिए।

ज्यादातर व्यापारी थे मौजूद

टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति व कोर कमेटी ने सोमवार शाम को कपड़ा बाजार के सभी टैक्सटाइल मार्केट के अध्यक्ष व सचिव को बैठक में बुलाया गया था। बैठक में मार्केट पदाधिकारी के बजाय ज्यादातर व्यापारी मौजूद थे। मौजूद व्यापारियों ने जीएसटी के विरोध में कपड़ा बाजार अनिश्चितकाल के लिए बंद रखे जाने के समर्थन में जमकर हंगामा भी किया।

युवा ब्रिगेड ने लिखे पोस्टकार्ड

टैक्सटाइल संघर्ष युवा ब्रिगेड ने सोमवार को प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री व कपड़ा मंत्री के नाम पोस्टकार्ड लिखे। सोमेश्वरा मार्केट में आयोजित कार्यक्रम में कई व्यापारी मौजूद थे और उन्होंने पोस्टकार्ड पर जीएसटी हटाओ-कपड़ा उद्योग बचाओ, कपड़े को जीएसटी से मुक्त करो, टैक्स लेना है तो सरलीकरण करो... आदि संदेश लिखे। युवा ब्रिगेड की अगली बैठक बुधवार को साकेत मार्केट में होगी।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???