Patrika Hindi News

जीएसटी के विरोध में कपड़ा व्यापारी 24 जून से रखेंगे बाजार बंद

Updated: IST surat
गुड्स एंड सर्विस टैक्स का विरोध सूरत के कपड़ा बाजार में अब तेज होता जा रहा है। सोमवार को टैक्सटाइल

सूरत।गुड्स एंड सर्विस टैक्स का विरोध सूरत के कपड़ा बाजार में अब तेज होता जा रहा है। सोमवार को टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति की बैठक में पहले प्रयास बाद में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर कपड़ा व्यापारियों की भारी समर्थन के साथ सहमति बनी है। बैठक में तय किया गया कि 21 से 23 जून तक देशभर की कपड़ा मंडियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली में बैठक कर केंद्र सरकार से कपड़ा उद्योग पर से जीएसटी हटाने की मांग की जाएगी। मांग नहीं माने जाने पर 24 जून से सूरत समेत देशभर की कपड़ा मंडियां अनिश्चिततालीन बंद रहेंगी।

देश की सबसे बड़ी टैक्सटाइल मंडी सूरत के कपड़ा बाजार में कई दिनों से जीएसटी का विरोध जारी है। स्थानीय कपड़ा व्यापारी टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति के बैनर तले केंद्र सरकार के इस निर्णय के विरोध में खड़े हैं। हजारों व्यापारियों की आमसभा, एक दिवसीय सांकेतिक बंद के बाद आवश्यक निर्णय के लिए समिति की बैठक सोमवार शाम सूरत टैक्सटाइल मार्केट की टैक्सप्लाजा होटल में बुलाई गई। बैठक में कपड़ा बाजार के एक सौ अस्सी टैक्सटाइल मार्केट के अध्यक्ष व सचिवों को बुलाया गया। बैठक के दौरान अधिकांश व्यापारियों ने जीएसटी के विरोध में केवल मात्र कपड़ा बाजार बंद रखकर ही आगे बढऩे पर जोर दिया।

काफी शोरगुल के बाद संघर्ष समिति के संयोजक ताराचंद कासट ने घोषणा करते हुए बताया कि 21 से 23 जून तक दिल्ली में सभी कपड़ा मंडियों के व्यापारी प्रतिनिधि संयुक्त बैठक बुलाकर भारत सरकार के समक्ष कपड़ा उद्योग पर से जीएसटी हटाने की मांग करेंगे।

देशभर के कपड़ा व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल की मांग स्वीकार नहीं किए जाने की स्थिति में 24 जून से सूरत समेत देशभर की कपड़ा मंडियां अनिश्चितकाल के लिए बंद रखी जाएंगी। बैठक में टैक्सटाइल जीएसटी संघर्ष समिति व कोर कमेटी के मंत्री अनिलकुमार अग्रवाल, चम्पालाल बोथरा, कोषाध्यक्ष सज्जन जालान, प्रवक्ता जयलाल, सांवरप्रसाद बुधिया, ब्रजमोहन अग्रवाल समेत कई व्यापारी नेता मौजूद थे।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???