Syria Strike Cost Would Not Be Extraordinary

Most Read

सीरिया पर हमले का खर्च आखिर कितना होगा?

Syria Strike Cost Would Not Be Extraordinary

print 
Syria Strike Cost Would Not Be Extraordinary
9/7/2013 5:54:00 PM
Syria Strike Cost Would Not Be Extraordinary
Syria Strike Cost Would Not Be Extraordinary
वाशिंगटन। अमरीका सीरिया पर हमले तो तैयार है लेकिन वह इस पर आने वाले खर्च के हिसाब-किताब में जुटा है। सेना के अनुसार सीरिया के खिलाफ संभावित हमले की लागत "असाधारण" नहीं होगी। अमरीकी नेवी के प्रमुख ने गुरूवार को इस युद्ध के बेहद खर्चीले होने की बात को खारिज कर दिया।

करोड़ों डालर होंगे खर्च -

एडमिरल जोनाथन ग्रीनर्ट के बयान से पेंटागन प्रमुख चक हेगल द्वारा बुधवार को दी गई अनुमानित लागत की पुष्टि कर दी। हेगल ने सांसदों को बताया कि सीरिया पर हमलों का खर्च करोड़ों डालर हो सकता है।

जंगी जहाजों ,पनडुब्बियों की प्रमुख भूमिका होगी -

टॉमहॉक क्रूज मिसाइल्स से लैस जंगी जहाज व पनडुब्बियों की इस हमले में प्रमुख भूमिका होगी। उल्लेखनीय है कि कथित रूप से रासायनिक हमले के उपयोग के विरोध में अमरीका सीरिया को दंडित करना चाह रहा है। राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस हमले के लिए कांग्रेस का समर्थन मांगा है।

15 लाख डालर की होती है टॉमहॉक मिसाइल -

इस पर खर्च के मसले पर ग्रीनर्ट ने एक कार्यक्रम में कहा, एक टॉमहॉक मिसाइल 15 लाख डालर की होती है और इस क्षेत्र में कुछ जंगी जहाजों को रखने पर करोड़ों डालर और खर्च होंगे। कुल खर्च को लेकर माथापच्ची जारी है लेकिन वह बहुत अधिक नहीं होगा। उन्होंने टॉमहॉक मिसाइल को प्रभावी हथियार बताया।

एक सप्ताह का खर्च चार करोड़ डालर -

भूमध्यसागर में अभी अमरीकी नौसेना के चार जंगी जहाज तैनात हैं। जरूरत पड़ी तो रेड सी से और जंगी जहाज व विमानवाहक पोत निमित्ज को भी रवाना कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब विमान लड़ाकू अभियान संबंधी उड़ान भरते हैं तो केरियर स्ट्राइक ग्रुप पर एक सप्ताह का खर्च चार करोड़ डालर आता है। वहीं नियमित अभियान का खर्च 2.5 करोड़ डालर होता है। उनके बयान से पहली बार साफ हुआ है कि ओबामा सरकार सीरिया पर हमले में टॉमहॉक मिसाइल्स के उपयोग की तैयारी में है।

खर्च का अनुमान कुछ दिनों को लेकर -
वहीं इस खर्च को लेकर हेगल द्वारा सांसदों को दी गई जानकारी इस अनुमान पर आधारित है कि हमला कुछ ही दिन चलेगा। यह भी स्पष्ट किया गया है कि यह हमले को लेकर खुली छूट होगी या यह सीरिया शासन को अपदस्थ करने के लिए होगा।

लीबिया पर पहले दिन दागी थीं 110 टॉमहॉक मिसाइलें -

साल 2011 में जब नाटो ने लीबिया पर हवाई हमला किया था तो पहले दिन 110 टॉमहॉक मिसाइलें दागी गई थीं। इस पर अमरीका का करीब एक अरब डालर खर्च आया था।
रोचक खबरें फेसबुक पर ही पाने के लिए लाइक करें हमारा पेज -
अपने विचार पोस्ट करें

Comments
Top