Patrika Hindi News

मन्नत पूरी होने पर यहां देवताओं की प्रतिमा में जड़वाते हैं पुराने सिक्के

Updated: IST danteshwari temple
आदिवासी अपने आराध्य आंगादेव को खुश करने देव पर ब्रिटिशकालीन चांदी के सिक्के जड़ते हैं

छत्तीसगढ के बस्तर के आदिवासी अपने आराध्य आंगादेव को खुश करने देव पर ब्रिटिशकालीन चांदी के सिक्के जड़ते हैं। इस परंपरा के चलते बस्तर के आंगादेव पुराने सिक्कों का चलता फिरता संग्रहालय बन गए हैं।

यह भी पढें: यहां है बेताल की गुफा, छत से टपकता है देसी घी, आने वालों की इच्छाएं होती हैं पूरी

यह भी पढें: इस एक रेखा से तय होता है आदमी का भाग्य, इन उपायों से खुलती है किस्मत

क्षेत्रीय लोगों के अनुसार स्थानीय देवी-देवता के प्रतिरूप को आंगादेव या पाटदेव कहा जाता है। ग्रामीण इनका निर्माण कटहल की लकड़ी से करते हैं, जिसके बाद इन्हें चांदी से तैयार विभिन्न आकृतियों से सजाते हैं। पुराने सिक्कों को टांक कर देव को सुन्दर दिखाने का प्रयास किया जाता है। गिरोला स्थित मां हिंगलाज मंदिर के पुजारी लोकनाथ बघेल ने बताया कि देवी-देवताओं को सोने-चांदी के आभूषण भेंट करना आदिवासियों की पुरानी परंपरा है।

यह भी पढें: यहां स्त्री स्वरूप में पूजते हैं राम भक्त हनुमान, दर्शन मात्र से ही पूरी हो जाती है मुराद

यह भी पढेः यहां हनुमानजी के चरणों में स्त्रीरूप में बैठे हैं शनिदेव, दर्शन मात्र से कट जाते हैं सारे पाप

वनांचल में रहने वाले ग्रामीण अब इतने सक्षम नहीं रहे कि वे सोने-चांदी की श्रृंगार सामग्री भेंट कर सकें, इसलिए वे अपने घरों में सहेज कर रखे चांदी के पुराने सिक्कों को मनौती पूर्ण होने पर अर्पित करते हैं। सिक्कों को देवों में जड़ दिया जाता हैं, ताकि चोरी की आशंका नहीं रहे।

यह भी पढें: आपके घर में है नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव तो आपकी रसोई का पानी हो सकता है बहुत उपयोगी

आदिवासी समाज के वरिष्ठ सदस्य और पेशे से अधिवक्ता अर्जुन नाग के मुताबिक बस्तर के आंगादेव और पाटदेव पुराने सिक्कों का चलता फिरता संग्रहालय भी हैं। इनमें वर्ष 1818 के तांबे के सिक्के से लेकर 1940-42 में चांदी के सिक्के तक जड़े मिलते हैं। यह शोध का भी विषय है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???