Patrika Hindi News

गोवर्धन पर्वत को मिला था हनुमानजी के कारण ऐसा वरदान, यहां पांव रखते ही पूरी होती है इच्छाएं

Updated: IST govardhan parvat
सेतु के लिए पत्थरों की कमी देख हनुमान जी ने गिरि गोवर्धन से सेतु के निर्माण के लिए चलने को कहा

कन्हैया की नगरी मथुरा में हनुमान जयंती के मौके पर राम भक्ति की सरयू प्रवाहित होती है। ब्रजभूमि यद्यपि कन्हैया की नगरी है क्योंकि यहीं पर उन्होंने मानव रूप में जन्म लिया था मगर यहां पर अन्य देवताओं के त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाए जाते हैं। हनुमान जयंती भी ब्रज के सैकड़ों हनुमान मंदिरों में बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। मंदिरों के अलावा भी जगह जगह पर अखंड रामायण का पाठ हनुमान जयंती के अवसर पर किया जाता है।

यह भी पढें: क्या आप जानते हैं हिंदू धर्म से जुड़ी इन 10 मान्यताओं और रीति-रिवाजों के बारे में

यह भी पढें: काले जादू में इस तरह होता है मंत्रों का प्रयोग

गीता आश्रम वृंदावन के अधिष्ठाता महामंडलेश्वर डॉ. अवशेषानन्द ने बताया कि हनुमान जी का ब्रज आगमन त्रेता में ही हो गया था। रामेश्वरम में समुद्र पर सेतु बनाने के श्रीराम के आदेश के बाद सभी वानर पत्थर लाने लगे और सेतु का बनना शुरू हो गया। सेतु के लिए पत्थरों की कमी देख हनुमान जी गिर्राज धाम आए और उन्होंने गिरि गोवर्धन से सेतु के निर्माण के लिए चलने को कहा। गोवर्धन महाराज हनुमान जी के प्रस्ताव को सुनकर बहुत खुश हुए तथा रामेश्वर चलने को तैयार होने लगे।

डॉ. अवशेषानन्द ने बताया कि जब गोवर्धन महराज चलने ही वाले थे तभी श्रीराम का आदेश आया कि सेतु का निर्माण पूरा हो गया है तथा अब गोवर्धन पर्वत को लाने की आवश्यकता नही है। इस पर गोवर्धन महाराज बहुत दु:खी हुए कि वे भगवान के काम में न आ सके। गोवर्धन महराज ने हनुमान जी से कहा कि वे श्रीराम से जाकर कहें कि वे उनकी भी सेवा ले लें।

यह भी पढें: एक रुपया भी खर्च नहीं होगा और घर में आने लगेगी दिन-दूनी, रात-चौगुनी लक्ष्मी

यह भी पढें: अमावस्या को करें ये छोटा सा अचूक उपाय, मनचाहे काम में सफल होंगे

इस पर श्रीराम ने हनुमान जी से गोवर्धन महाराज को यह संदेश भिजवाया कि वे द्वापर में जब कृष्णरूप में ब्रज में आएंगे तो उनकी स्वयं पूजा कर उनका मान सम्मान बढ़ाएंगे। द्वापर में श्रीकृष्ण ने गोवर्धन को न केवल सबसे छोटी उंगली पर सात दिन सात रात धारण किया था बल्कि स्वयं गिर्राज का पूजन किया था तथा हनुमान जी के माध्यम से गोवर्धन को दिए वचन को पूरा किया था। आज गोवर्धन में परिक्रमा मार्ग पर दर्जनों हनुमान मंदिर हैं जो इस बात के गवाह हैं कि हनुमान जी द्वापर में गोवर्धन धाम आए थे।

यह भी पढें: भविष्यपुराण की 9 बातें, अब आप भी जान सकते हैं किसी का स्वभाव, भविष्य

ब्रज में स्थित हनुमान मंदिरों की अपनी अलग विशेषता है किंतु डीग गेट पर स्थित हनुमान मंदिर की दिव्य प्रतिमा जमीन से निकालने का स्वप्न हनुमान जी ने स्वयं शिवाजी के वंशजों को दिया था।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???